नशे की गोलियों के सप्लायर तीन युवकों को पांच पांच साल की कैद

|

Updated: 17 Sep 2020, 11:59 PM IST

Suppliers of drug pills imprisoned three youths for five years- दो साल पहले हिन्दुमलकोट पुलिस ने पकड़ी थी नशीली दवाईयों की खेप.

श्रीगंगानगर. नशीली दवाईयों की तस्करी करने के जुमज़् में अदालत ने तीन तस्करों को पांच पांच साल कठोर कारावास और एक-एक लाख रुपए जुमानज़्े से दंडित किया है। जबकि एक आरोपी अभियोजन पक्ष के ठोस साक्ष्य के अभाव में बरी हो गया। जिन तस्करों को सजा दी गई है, उसमें दो जने तो हनुमानगढ़ के रहने वाले है।

एनडीपीएस कोटज़् के स्पेशल जज ने यह निणज़्य सुनाया। विशिष्ट लोक अभियोजक अजय बलाना ने बताया कि हिन्दुमलकोट पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर 26 जून 2018 को गांव कोठा के पास नाकेबंदी की।

इस दौरान एक बाइक पर सवार तीन युवकों को संदेह के आधार पर पूछताछ की तो इनके कब्जे से 9300 नशे की गोलियां बरामद की। गहन पूछताछ के बाद इन तीनों युवकों से ढाई सौ ढाई सौ गोलियां और कुल मिलाकर 9800 गोलियां बरामद हुई।

पुलिस ने इस मामले में बाइक चालक हनुमानगढ़ टाऊन पारीक कॉलोनी वाडज़् 27 निवासी राजेन्द्र सिंह उफज़् गोगी पुत्र हंसासिंह रायसिख, बाइक सवार हनुमानगढ़ नई आबादी वाडज़् 16 निवासी गोपीराम सुथार पुत्र गणेशाराम, गांव पक्की निवासी सोना सिंह उफज़् सोनू पुत्र फौजा सिंह रायसिख को मौके से गिरफ्तार किया गया।

इन तीनों की पूछताछ के उपरांत हनुमानगढ़ टाऊन रुपनगर वाडज़् 30 निवासी श्योकत अली उफज़् खटटू पुत्र ईशाक खान लबाना मुसलमान को गिरफ्तार किया गया। अदालत ने गोपीराम, सोनासिंह और शौकत अली को दोषी मानते हुए पांच पांच साल कारावास व एक एक लाख रुपए जुमानज़्े की सजा सुनाई। जबकि आरोपी राजेन्द्रसिंह को साक्ष्य के अभाव में दोष मुक्त कर दिया। इससे पहले पुलिस पूछताछ में इन आरोपियों ने खुलासा किया था कि गांव पक्की और कोठा गांव एरिया से चिपते पंजाब क्षेत्र नशे का चलन अधिक है।

बहुत संख्या में नशेड़ी लोग रहते है। इस एरिया में पोस्त नशा बंद होने के कारण नशीली गोलियों का चलन अधिक हो गया है। पुलिस की ओर से अदालत में पेश की गई चाजज़्शीट के अनुसार आरोपी राजेन्द्र सिंह, गोपीरामऔर सोना सिंह नशे की गोलियां की तस्करी करने लगे। ये तीनों गांव गहाडृ हाल हनुमानगढ़ टाउन वाडज़् 30 रुपनगर कॉलोनी के शरीफ खां के मकान में किरायेदार शौकत अली से नशे की गोलियां खरीद कर लाए थे।