लॉक डाउन में बिना अनुमति खोली दुकान, ठोका दो दो हजार रुपए का जुर्माना

|

Published: 08 May 2020, 10:47 PM IST

Shop opened without permission in lock down, fined two thousand rupees- नगर परिषद आयुक्त ने निरीक्षण के दौरान की कार्रवाई.

श्रीगंगानगर. मॉडिफाइड लॉक डाउन में बाजार एरिया में ऑड-इवन फार्मूले के अनुरुप दुकानें खोलने के बावजूद कई लोग अपनी मनमर्जी कर रहे है। ऐसे में अब नगर परिषद प्रशासन ने ऐसी मनमर्जी करने वाले दुकानदारों के खिलाफ सख्त कदम उठाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

नगर परिषद आयुक्त प्रियंका बुडानिया ने शुक्रवार को बाजार एरिया में निरीक्षण के दौरान दक्षिण मुखी और पश्चिम मुखी दुकानें खोलने की छूट के बावजूद उत्तरमुखी और पूर्व मुखी दो दुकानें खोलने पर दो दो हजार रुपए का जुर्माना लगाया है। आयुक्त ने बताया कि शुक्रवार को दक्षिण मुखी और पश्चिम मुखी दुकानें खोलने की अनुमति थी लेकिन गोलबाजार क्षेत्र कोतवाली रोड पर अग्रवाल साहित्य सदन और राजस्थान बुक स्टोर पर दो-दो हजार रुपए का जुर्माना लगाया है।

हालांकि इन दोनों दुकानदारों ने गलफत में दुकान खोलने की बात भी कही लेकिन आयुक्त ने कोई दलील नहीं सुनी। आयुक्त का कहना था कि ऑड-इवन फार्मूला कोरोना वायरस संक्रमण रोकने के लिए किया गया ताकि लोगों की भीड़ बाजार में अधिक नहीं हो। इसके बावजूद फार्मूले को तोड़ा जा रहा है।

इस बीच, लॉक डाउन में केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने शाम छह बजे के बाद दवा की दुकानों को खोलने की छूट दी हुई है। लेकिन नगर परिषद ने ऑड-इवन फार्मूला लागू करने के आदेश में इन दवा की दुकानों को भी शामिल कर दिया था लेकिन अब नगर परिषद ने यू टर्न लेते हुए संशोधित आदेश जारी किया है। इसमें दवा की दुकानों को शाम छह बजे तक खोलने की बाध्यता की शर्त हटा दी है।

आयुक्त प्रियंका बुडानिया का कहना है कि गृह मंत्रालय ने दवा की दुकानों को अति आवश्यक सेवाओं की श्रेणी में माना था लेकिन नगर परिषद की ओर से आदेश में इन दुकानों को भी अन्य दुकानों में शामिल कर लिया था लेकिन अब दवा की दुकानों पर लगी पाबंदी से छूट दी जा रही है। उन्होंने बताया कि जिन इलाके में एकल ही दुकान है, वहां ऑड-इवन फार्मूला लागू नहीं होगा।

उधर, बीरबल चौक के पास सब्जी मंडी में जैसे ही शुक्रवार शाम छह बजे तो वहां दुकानें बंद हो गई। यहां तक कि महावीर दल मंदिर के आगे गली में देर रात तक लगने वाली सब्जी और फलों की रेहडिय़ों की चहल पहल गायब हो गई। पूरे बाजार एरिया में कफ्र्यू जैसा सन्नाटा पसर गया। वहीं शराब ठेके भी शाम छह बजे होते ही बंद हो गए। सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक ऑड-इवन फार्मूले से दुकानें खुलने का सिलसिला जारी है। शुक्रवार को इवन श्रेणी की दुकानें खुली थी, तब बाजार एरिया में लोगों की आवाजाही शुरू हो गई। खरीददारी करने के लिए लोग बाजार में पहुंचे लेकिन कई दुकानें बंद होने के कारण निराशा भी हाथ लगी। शनिवार को ऑड श्रेणी की दुकानें खुल सकेगी।

इस बीच पुलिस प्रशासन ने जिन एरिया में लोगों की अधिक भीड़ रहती है, उन बाजार एरिया में रेडिमेड बैरीकेट्स लगाकर वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी। इसमें तहबाजारी एरिया और पुलिस कंट्रोल रूम के पास केदार चौक एरिया शामिल है। तह बाजारी के दोनों छोर पर रेडीमेड बैरीकेटस लगाने से वाहनों की आवाजाही रोक दी गई, यहां तक कि दुपहिया वाहनों को भी एंट्री नहीं मिली।

दुकानों से सामान लाने के लिए रिक्शा चालकों को एक छोर पर खड़े होने की अनुमति दी गई ताकि संबंधित दुकान से रिक्शा तक यह सामान लाया जा सके। इसी प्रकार केदार चौक एरिया में भी बैरीकेटस से वाहनों की आवाजाही एकाएक थम गई।