बेटियों ने फि र किया 'सफ लता का शंखनाद

|

Updated: 29 Jul 2020, 08:41 AM IST

-विज्ञान और वाणिज्य के बाद अब दसवीं के परिणाम में भी गिरावट, 0.37 प्रतिशत कम

-अजमेर बोर्ड: दसवीं में 80.23 प्रतिशत रहा जिले का परिणाम

बेटियों ने फि र किया 'सफ लता का शंखनाद

-विज्ञान और वाणिज्य के बाद अब दसवीं के परिणाम में भी गिरावट, 0.37 प्रतिशत कम

-अजमेर बोर्ड: दसवीं में 80.23 प्रतिशत रहा जिले का परिणाम

श्रीगंगानगर. माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर ने मंगलवार शाम 4 बजे इस साल की परीक्षाओं का चौथा और अंतिम परीक्षा परिणाम जारी किया। इसमें जिले में 15795 छात्र और 14323 छात्राएं सहित 30118 विद्यार्थी पंजीकृत थे। दसवीं के रिजल्ट में 0.37 प्रतिशत की गिरावट के साथ 80.23 प्रतिशत परीक्षा-परिणाम रहा है। हालांकि जिले के बहुत से विद्यालयों का परीक्षा परिणाम शत-प्रतिशत रहा है। जिनमें काफ ी राजकीय विद्यालय भी शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि कोरोना संकट के कारण 10वीं के सामाजिक विज्ञान और गणित विषयों के अलावा व्यावसायिक शिक्षा के 12 ट्रेड के पेपर स्थगित हो गए थे, जिन्हें बोर्ड ने 27 जून से 30 जून के मध्य आयोजित करवाया था जबकि हिंदी, अंग्रेजी, तृतीय भाषा और विज्ञान की परीक्षाएं पहले ही संपन्न हो चुकी थीं।

12वीं के बाद 'आपणी छोरियांÓ 10वीं में भी आगे

12वीं के तीनों संकायों विज्ञान, वाणिज्य और कला में लड़कों को पछाडऩे के बाद के 10वीं में भी जिले व राज्य के परीक्षा परिणाम में बेटियों ने बाजी मारी है। जिले में 5318 बेटियों ने प्रथम श्रेणी प्राप्त की है जबकि केवल 3867 छात्र ही प्रथम श्रेणी ला सके हैं। इस साल छात्राओं का परिणाम छात्रों से 5.55 प्रतिशत अधिक रहा है जिसमें राजकीय विद्यालयों की छात्राएं अधिक हैं।
16वें स्थान पर रहा हमारा जिला

दसवीं के परिणाम में गंगानगर जिला अजमेर के साथ संयुक्त रूप से 16वें स्थान पर रहा है। अजमेर की परिणाम भी 80.23 प्रतिशत रहा है। इस साल के परिणामों में 88.27 प्रतिशत के साथ झुंझुनूं पहले तथा 69.77 प्रतिशत के साथ कोटा अंतिम स्थान पर रहा है। जबकि पड़ौसी जिला हनुमानगढ़ 79.37 प्रतिशत रिज्लट से हमसे 1 कदम नीचे 17 वें स्थान पर रहा है।

28 दिन बाद जारी हुआ परिणाम
राजस्थान बोर्ड ने कोरोना के बीच नवाचार करते हुए इस वर्ष विद्यार्थियों के प्राप्तांक परीक्षकों से ऑनलाइन पोर्टल पर अपलोड करवाए थे। जिसके कारण मूल्यांकन प्रक्रिया में तेजी आई और कम समय में परिणाम जारी कर दिया। 10वीं का परिणाम जारी करने में बोर्ड को केवल 28 दिन का समय लगा है।

-फैक्ट फ ाइल

जिले में पंजीकृत

छात्र 15795

छात्राएं 14323

कुल 30118

जिले में परीक्षा में प्रविष्ट विद्यार्थी

छात्र 15205

छात्राएं 14013

कुल 29218

छात्रों का श्रेणीवार परिणाम

प्रथम श्रेणी 3867
द्वितीय श्रेणी 5768

तृतीय श्रेणी 2101
उतीर्ण 59

कुल 11795
प्रतिशत77.57

छात्राओं का श्रेणीवार परिणाम

प्रथम श्रेणी 5318

द्वितीय श्रेणी 5172

तृतीय श्रेणी 1101

उतीर्ण 56

कुल 11647

प्रतिशत 83.12

जिले का श्रेणीवार कुल परिणाम

प्रथम श्रेणी 9185
द्वितीय श्रेणी 10940

तृतीय श्रेणी 3202
उतीर्ण115

कुल 23442
प्रतिशत 80.23

-10वीं में यूं रहा जिले का दस सालों का परिणाम

वर्ष प्रतिशत पंजीकृत विद्यार्थी
2011 77.00 30082

2012 66.00 28493
2013 67.00 33614

2014 68.00 31093
2015 80.00 29345

2016 75.98 28166
2017 80.10 28378

2018 80.46 28086
2019 80.60 29149

2020 80.23 30118

चार वर्षों से जिले का दसवीं कक्षा का परिणाम लगभग 80 प्रतिशत रह रहा है। 10वीं के रिजल्ट में पिछले साल 0.14 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई थी। जबकि इस साल नियमित व स्वयंपाठी विद्यार्थियों के विषयवार परिणाम प्रतिशत में से गणित का परीक्षा परिणाम सबसे कम रहा है।
-भूपेश शर्मा, सह संयोजक जिला समान परीक्षा योजना (माध्यमिक) शिक्षा, श्रीगंगानगर।