जनता की समस्याओं का नहीं हो रहा समाधान

|

Published: 22 Jun 2020, 05:25 PM IST

तीन लॉकडाउन के बाद अनलॉक में नागरिक समस्याओं के समाधान की आशा कर रहे हैं। वहीं परिषद के सदस्य समस्याओं पर ध्यान नहीं दे रहे है।

छिंदवाड़ा/पांढुर्ना . नगरपालिका जनता की कसौटी पर खरा नहीं उतर पा रही है। आमजन की लगातार उपेक्षा हो रही है जिससे नागरिकों में रोष पनप रहा है। तीन लॉकडाउन के बाद अनलॉक में नागरिक समस्याओं के समाधान की आशा कर रहे हैं। वहीं परिषद के सदस्य समस्याओं पर ध्यान नहीं दे रहे है।
शहर के एमपीएल मैदान पर बाउंड्रीवॉल का निर्माण हो या फिर शहर की मुख्य सडक़ पर बने गड्ढों को बुझाने का। इस तरह की समस्याओं के कारण रोजाना जूझ रहे नागरिकों में नाराजगी है और लगातार समस्याओं के निराकरण की मांग की जा रही है।
बाउंड्रीवॉल निर्माण नहीं हुआ शुरू : नगर पालिका ने फरवरी माह में एमपीएल मैदान पर मुख्य सडक़ की ओर बाउंड्रीवॉल का निर्माण करने के लिए खुदाई की थी। परंतु पार्षदों में मतभेद के बाद इसे रोक दिया गया था। 7 मार्च को हुई परिषद की बैठक में सभी पार्षदों ने स्थल निरीक्षण कर सहमति बनाने की बात कही थी।
लॉकडाउन खत्म हुए एक महीना हो चुका है इसके बाद भी इस निर्माण को लेकर सहमति बनाई जा सकी है। वर्षों से इस खेल मैदान के विकास की मांग खेल प्रेमी कर रहे है। बाउंड्रीवॉल नहीं बनने से वाहनों की आवाजाही चलती रहती है। इससे मैदान खराब होता है वहीं खेलने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सहायक यंत्री सोनू सकवार का कहना है कि एमपीएल स्कूल की बांउड्री की सीध में मैदान की बाउंड्री बनना तय था। ब पार्षदों के निर्णय के बाद कार्य प्रारंभ होगा।

एजेंसी की लापरवाही, नपा ने भरी मिट््टी
मुख्य सडक़ पर बने गड्ढों को लेकर पत्रिका ने समाचार प्रकाशित करने के बाद नगर पालिका ने रोड निर्माण एजेंसी देव कंस्ट्रक्शन को मेंटेनेंस कार्य करने के लिए नोटिस जारी किया है। बताया जा रहा है कि नगर पालिका ने खुद जाकर गड्ढों में मिट्टी भरवाई लेकिन अब तक कंस्ट्रक्शन कंपनी के कानों पर जूं तक नहीं रेंगी है। उपयंत्री निशा गुप्ता ने बताया कि सीसी रोड पर 36 गड्ढों और बीटी रोड पर हुए गड्ढों को लेकर एजेंसी को नोटिस दिया गया है। एक सप्ताह के भितर गड्ढे बुझाने के लिए नोटिस में कहा गया है। इधर गड्ढों में भरी मिट्टी इकट्ठा होकर बड़े वाहनों के लिए दुर्घटना का पर्याय बन चुकी है। इस बात के फलस्वरूप यदि गड्ढों की मरम्मत शीघ्र नहीं की जाती है तो घटना को होने से नही रोका जा सकेगा।
तीन साल से किसान हो रहे परेशान

टेकड़ी वार्ड में जाम नदी के किनारे स्थित खेतों की मिट्टी कई वर्षों से बाढ़ के कारण कटाव की मार झेल रही है। किसानों के खेत का रकबा हर साल कम होते जा रहा है। किसान जनाबाई जोगेकर, भीमराव फरकसे, गोपाल फरकसे, मारोती फरकसे, सुखदेव फरकसे, मरोती फरकसे, गनपति जोगेकर, दशरथ जोगेकर ने बताया कि पिछले दिनों भी नगर पालिका ने ऋषि बाबा डैम की खुदाई के लिए पोकलेन मशीन लगाकर मिट्टी को नदी के दूसरी ओर भर दिया जिससे बारिश का पानी किसानों के खेत में घुस गया और किनारें की मिट्टी अपने साथ बहाकर ले गया। किसानों ने नुकसानी की भरपाई करने की मांग की गई थी लेकिन न मुआवजा दिया गया न ही नहीं आरसीसी वॉल बनाने के लिए प्रकार की कोई कार्रवाई की गई है।