She News : महिमा, जिन्होंने अपने बिजनेस को दी नई बुलंदी

|

Published: 13 Jun 2021, 12:34 PM IST

शख्सियत: कंपनी की मैनेजिंग डायरेक्टर 43 वर्षीय महिमा डाटला ने वैक्सीन से जुड़ी अपनी कंपनी के राजस्व को 10 फीसदी से 80 फीसदी तक बढ़ाने में योगदान दिया है और अब यह उन अग्रणी कंपनियों में है।

पत्रिका न्यूज नेटवर्क.नई दिल्ली. देश में कम लागत से बनने वाली कोविड 19 की वैक्सीन 'कॉर्बेवैक्स' इन दिनों चर्चा में है। हैदराबाद की कंपनी बायोलॉजिकल ई ने इसे बनाया है और उसके साथ ही एक और नाम सुर्खियों में हैं और वह है, 43 वर्षीय महिमा डाटला। वे इस कंपनी की मैनेजिंग डायरेक्टर हैं। आपको बता दें, कुछ समय पहले ही फोब्र्स मैगजीन ने उनकी कंपनी को वैक्सीन की दौड़ में छुपा रुस्तम बताया था। वे कहती हैं कि हमने यह वैक्सीन लाभ के लिए नहीं, बल्कि जरूरतमंद लोगों को टीके लग सकें, इसके लिए बनाई है।

उन्होंने ब्रिटेन की वेबस्टर यूनिवर्सिटी से बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन की डिग्री ली है। पिछले दिनों एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा था कि जब मैं पढ़ाई कर रही थी, तब मुझे इस बात की जानकारी नहीं थी कि हमारा व्यवसाय क्या है। मैंने पहले से अपने पारिवारिक व्यवसाय में आने के बारे में नहीं सोचा था। ग्रेजुएशन करने के बाद मैं यहां इसलिए आई, क्योंकि मुझे लगा कि यह मेरे रिज्यूमे में अच्छा लगेगा। तब मेरी योजना निजी इक्विटी फर्म या मैनेजमेंट कंसल्टेंसी में शामिल होने से पहले एमबीए करने की थी।


कंपनी का बढ़ाया राजस्व
महिमा डाटला की इस कंपनी में बड़ी भूमिका रही है। उन्होंने बीस वर्षों की अवधि में वैक्सीन से जुड़ी अपनी कंपनी के राजस्व को 10 फीसदी से 80 फीसदी तक बढ़ाने में योगदान दिया है और अब यह उन अग्रणी कंपनियों में है, जो वैश्विक बाजार को कई जीवनरक्षक दवाएं और टीके उपलब्ध कराती है। यह कंपनी 1948 में महिमा के दादा जीएएन राजू व डीवीके राजू ने शुरू की थी। तब यह रक्त के थक्के बनने से रोकने वाली दवा हिपेरिन बनाया करती थी।