German Cruiser Karlsruhe : 80 वर्ष बाद समुद्र में मिला जर्मन जहाज का मलबा

|

Published: 16 Sep 2020, 06:34 PM IST

द्वितीय विश्व युद्ध में ब्रिटिश टारपीडो के हमले से डूबा था
- डूबने से पहले चालक दल को निकालने के बाद जर्मन सेना ने खुद ही इसे उड़ा दिया था

ओस्लो. द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान 1940 में एक टारपीडो के हमले से डूबे जर्मन युद्धपोत काल्र्सरुहे का मलबा नार्वे के दक्षिणी तट पर क्रिस्टियानसैंड बंदरगाह से 13 नॉटिकल मील दूर समुद्र में मिला है। दरअसल नॉर्वे की पावर कंपनी स्टेटनेट के इंजीनियर समुद्र में पावर केबल का निरीक्षण कर रहे थे, तभी उन्हें काल्र्सरुहे का मलबा नजर आया।

174 मीटर लंबा काल्र्सरुहे नाजी सेना का एकमात्र प्रमुख युद्धपोत था, जिसने नॉर्वे पर मजबूती से प्रहार किया, लेकिन लौटते वक्त यह ब्रिटिश पनडुब्बी का शिकार हो गया। डूबने से पहले चालक दल को निकालने के बाद जर्मन सेना ने खुद ही इसे उड़ा दिया था, ताकि कोई राज दुश्मनों के हाथ ना लगें। सोनार से जून में जहाज का पता चल गया था, लेकिन स्वास्तिक और दूसरे चिह्नों से इसकी पहचान नाजी युद्धपोत काल्र्सरुहे के रूप में हुई, जिसका मलबा समुद्र में 535 फुट नीचे पड़ा है। एक अन्य दल को भी 2018 में इसका मलबा नजर आया था, लेकिन तब इसकी पहचान नहीं हो सकी थी।