और महंगी हो सकती है हल्दी, निर्यात भी बढऩे की उम्मीद

|

Published: 31 Jul 2020, 07:06 PM IST

हल्दी के इम्युनिटी बूस्टर के रूप में इस्तेमाल के चलते बढ़ी मांग

चेन्नई. आयुष मंत्रालय के कोविड-19 को लेकर जारी गाइडलाइन में हल्दी के सेवन की बात कही जाने के बाद घरेलु बाजार में हल्दी की मांग बढ़ गई है। हल्दी को इम्युनिटी बूस्टर के रूप में इस्तेमाल करने के बाद से हल्दी की खूब बिक्री हो रही है। जानकारों की मानें तो अगले एक-दो महीने में हल्दी के दाम 10 से 15 फीसदी तक बढ़ सकते हैं। साथ ही ऐसा अनुमान भी जताया जा रहा है कि इस वित्तीय वर्ष में 10 से 15 फीसदी अधिक निर्यात हो सकता है।
सबसे ज्यादा उत्पादन भारत में
विश्व में भारत में हल्दी का उत्पादन सबसे अधिक होता है। समूचे विश्व का करीब 75 फीसदी उत्पादन भारत में हो रहा है। वित्तीय वर्ष 2019-20 के दौरान देश में 9,38,955 टन हल्दी का उत्पादन हुआ। दिसम्बर 2019 तक ही एक लाख टन से अधिक हल्दी का निर्यात हो चुका है। जर्मनी, हालैण्ड व यूके में ताजे व सूखी हल्दी की मांग बनी हुई है। ईरान, मलेशिया, दुबई, अमरीका व यूरोपीय देशों से लगातार डिमांड आ रही है। भारत में सबसे ज्यादा हल्दी का उत्पादन आन्ध्रप्रदेश में होता है। इसके अलावा तमिलनाडु, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, मेघालय, असम, औडिसा व गुजरात में भी हल्दी का उत्पादन होता है।
औषधीय गुण
वैसे तो प्राचीन समय से ही हल्दी के औषधीय गुणों को आजमाया जाता रहा है। इन दिनों कोरोना वायरस के चलते हल्दी का दूध पीने पर भी जोर दिया जा रहा है। यह सेहत के लिए काफी फायदेमन्द रहता है। हल्दी के एंटीलिपिडेमिक गुण कोलेस्ट्रोल को बढऩे से रोकते हैं। इसमें करक्युमिन नामक तत्व होता है जो प्रेगनेन्ट महिलाओं एवं शिशु को कई बीमारियों के संक्रमण से बचाता है।
इम्यून सिस्टम को मजबूती
हल्दी एंटी आक्सीडेंट की तरह काम करती है। जो फ्री रेडिकल्स को हटाकर इम्यून सिस्टम को मजबूत करती है। हल्दी में एंटी इंफ्लामेट्री गुण होते हैं। जो सर्दी, जुखाम, खांसी में राहत देते हैं। जोड़ों में दर्द व पैरों की सूजन को कम करने में भी हल्दी लाभकारी बताई जाती है। जर्नल आफ जनरल वायरोलोजी में प्रकाशित एक शोध में भी इस बात का खुलासा हुआ है कि हल्दी में प्राकृतिक घटक करक्युमिन की मौजूदगी कुछ वायरस को खत्म करने में मदद कर सकते हैं।
...........................


हमारे जीवन का अंग
हल्दी हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा रहा है। खाना पकाने में मसाले के साथ ही औषधीय रूप भी है। अब हल्दी बड़े पैमाने पर एक प्रतिरक्षा बूस्टर के लिए उपयोग में लाई जा रही है।
- भूपेन्द्रसिंह राजपुरोहित, बिजनसमैन, चेन्नई।
.............................................