अनलॉक-3 के पहले दिन कोटा में 104 कोरोना रोगी मिले

|

Published: 01 Aug 2020, 10:36 AM IST

अनलॉक-3 के पहले दिन कोटा जिले में कोरोना ने हड़कंप मचा दिया। शहर से लेकर गांव तक कई जगह संक्रमण ने नई जगह दस्तक दे दी है।

कोटा. प्रदेश में कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ता जा रहा है। अब हर आयु के लोग लगातार पॉजिटिव आ रहे हैं। कोटा में हालात नियंत्रण से बाहर हो चले हैं। बाजार और शॉपिंग माल संक्रमण से बच नहीं पाए हैं। कोटा में अनलॉक-3 के पहले दिन 1 अगस्त को 104 करोना पॉजिटिव नए रोगी मिलने से हड़कंप मच गया। इस तरह कोटा में अब कोरोना रोगियों की संख्या करीब 1830 हो गई है। शहर में अब फिर से लॉकडाउन लगाने की मांग उठ रही है। जब प्रशासन ने कफ्र्यू नहीं लगाया तो कुछ व्यापारिक संगठनों ने खुद ही बाजार बंद करने का निर्णय लिया है। हालात बिगड़ता देख चिकित्सा विभाग ने कोविड-19 के गंभीर मरीजों के इलाज के लिए टोसिलीजूमेब और रेमडीसीविर इंजेक्शन को प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। अब कोविड-19 के मैनेजमेंट में सबसे महत्वपूर्ण कोराना के कारण होनी वाली जनहानि रोकने को प्राथमिकता दी जा रही है। कोटा, जयपुर, जोधपुर, बीकानेर, अजमेर और उदयपुर के मेडिकल कॉलेजों में टोसीलीजूमाब और रेमडीसीविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है।
जयपुर मेडिकल कॉलेज से जयपुर, अलवर, दौसा, झुंझनूं, सीकर, धौलपुर, करौली, सवाईमाधोपुर जिले इंजेक्शन प्राप्त कर सकते हैं। इसी तरह जोधपुर मेडिकल कॉलेज से जोधपुर, जैसलमेर, बाड़मेर, जालौर, पाली, सिरोही जिले, बीकानेर मेडिकल कॉलेज से बीकानेर, श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, चुरू जिले, कोटा मेडिकल कॉलेज से कोटा, बूंदी, झालावाड़, बारां जिले इंजेक्शन प्राप्त कर सकते हैं। इसी तरह अजमेर मेडिकल कॉलेज से अजमेर, टोंक, नागौर, भीलवाड़ा और उदयपुर मेडिकल कॉलेज से उदयपुर, राजसमंद, प्रतापगढ़, डूंगरपुर, बांसवाड़ा व चित्तौडग़ढ़ जिले इंजेक्शन प्राप्त कर सकते हैं। इसकी कीमत करीब 40 हजार रुपए है। राज्य सरकार ने महंगा होने के बावजूद इसे सभी मेडिकल कॉलेजों में उपलब्ध कराने की व्यवस्था की है। सरकार का मत है कि सभी जरूरतमंदों को इसका लाभ मिल सके।