खाट पर बैठकर राज्यपाल ने सुनीं आदिवासियों की समस्या, देखें वीडियो

|

Published: 13 Jul 2021, 09:14 PM IST

राज्यपाल पहुंचे आदिवासी ग्राम ढाबा...आदिवासियों से की मुलाकात शिक्षा पर दिया जोर..

सीहोर (नसरुल्लागंज). मध्य प्रदेश के राज्यपाल मंगू भाई पटेल मंगलवार को सीहोर जिले के आदिवासी ग्राम ढाबा पहुंचे। जहां पहले तो आदिवासियों ने राज्यपाल का स्वागत किया और फिर राज्यपाल ने खाट पर बैठकर ही आदिवासियों की समस्या सुनीं। इसके बाद राज्यपाल ग्राम आमडो पहुंचे जहां उन्होंने आदिवासियों को संबोधित किया व बेटियों की शिक्षा पर जोर दिया। इस दौरान राज्यपाल को ग्रामीणों ने तीर कमान भेंट किए और राज्यपाल ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि मैं खुद आदिवासी समाज से आता हूं और ये देखने आया था कि आदिवासियों के जीवन में कितना बदलाव आया है।


देखें वीडियो-

राज्यपाल ने किया आदिवासी गांवों का दौरा
राज्यपाल मंगूभाई पटेल ने मंगलवार की शाम करीब 4.30 बजे नसरुल्लागंज जनपद पंचायत क्षेत्र के ग्राम पंचायत ढाबा पहुंचे यहां कुछ देर तक आदिवासियों से मुलाकात करने के बाद राज्यपाल का काफिला तूरई गांव पहुंचा प्रधानमंत्री आवास का निरीक्षण के दौरान राजपाल खटिया पर बैठे एवं आदिवासियों से चर्चा की। विशेषकर महिलाओं एवं बच्चियों से चर्चा करते हुए राज्यपाल ने कहा कि हमें बच्चों को अच्छी शिक्षा देना है बेटियां को भी पढ़ाना है बेटियां दो परिवारों को जोड़ती हैं। हमें मिलकर निचले तबके के लोगों की सेवा कर उन्हें मुख्यधारा से जोड़ना है। राज्यपाल जब आदिवासियों के घर पहुंचकर खटिया पर बैठे तो घर के लोग फूले नहीं समा रहे थे। इस दौरान राज्यपाल ने आदिवासियों से दैनिक दिनचर्या के विषय में चर्चा की एवं शासन की योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं इसके संबंध में जानकारी ली।

ये भी पढ़ें- कर्ज चुकाने के लिए पत्नी को बेच रहा था पति, नहीं मानी तो कुएं में फेंक दिया

ग्राम आमडो में आदिवासियों को किया संबोधित
ग्राम मामडो में राज्यपाल ने आदिवासियों को संबोधित किया। इस दौरान राज्यपाल मंगूभाई ने कहा कि शासन की योजनाओं का लाभ लेकर सब को मुख्यधारा में जोड़ना है। गांव में बने पंचायत भवन की प्रशंसा करते हुए उन्होंने कहा कि इसकी देखरेख करना भी सभी का कर्तव्य है। इस दौरान लाडली लक्ष्मी योजना और आदिवासी पत्र एवं पात्रता पर्ची का वितरण भी किया गया। राज्यपाल ने कहा मैं स्वयं भी आदिवासी समाज से आता हूं मैं यह देखने आया हूं कि आदिवासियों की दिनचर्या में कितना बदलाव हुआ है। आप जागरूक बनें शिक्षा पर ध्यान दें क्योंकि अशिक्षा के कारण ही आदिवासी समाज बहुत पीछे रहता है। उन्होंने खुद का उदाहरण देते हुए कहा मैं बहुत गरीब परिवार से आता हूं लेकिन मैंने शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया और अच्छी शिक्षा प्राप्त की। यही कारण है कि मैं आज राज्यपाल जैसे पद तक पहुंचा हूं। कोरोना के संबंध में चर्चा करते हुए राज्यपाल ने कहा कि हमें हमेशा साफ स्वच्छ रहना चाहिए हाथ धोने के बाद ही किसी भी चीज को ग्रहण करना चाहिए। सोशल डिस्टेंस की दूरी बनाकर रखें, अगर हम सावधानी रखेंगे तो तीसरी लहर भी हमारा कुछ नहीं बिगाड़ पाएगी।

देखें वीडियो-