पोलियो की दवा के बाद मां ने मासूम को पिलाया दूध फिर कुछ ही पलों में थम गईं सांसें

|

Published: 12 Feb 2021, 08:33 PM IST

टीका लगने से पहले डेढ़ महीने के बच्चे की मौत, जिला अस्पताल में परिजन का हंगामा..

सीहोर. जिला अस्पताल में शुक्रवार को एक डेढ़ महीने के बच्चे की मौत हो गई। बालक की मौत के बाद परिजन ने जिला अस्पताल में काफी हंगामा किया। डॉक्टर्स पर लापरवाही के आरोप लगाए। जिला अस्पताल में जिस समय हंगामा हुआ, पुलिस के आला-अफसर दूसरी साइड कोरोना वैक्सीन लगवा रहे थे, जहां से तत्काल सीएसपी दीपक नायक को पुलिस बल के साथ मेटरनिटी भेजा। पुलिस ने परिजन को समझाइश दी और उसके कुछ देर बाद ही मामला शांत हो गया। परिजन डेढ़ महीने के बच्चे को जिला अस्पताल टीका लगवाने के लिए लाए थे।

 

पोलियो की दवा के बाद मां ने दूध पिलाया था
जानकारी के अनुसार जिला अस्पताल में हर दिन छोटे बच्चों का वैक्सीनेशन किया जाता है। शुक्रवार को भी वैक्सीनेशन चल रहा था। शहर के स्वदेश नगर निवासी विनोद ठाकुर और सरिता ठाकुर भी बच्चे को टीका लगवाने के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंचे थे। पेंटावैंलेट टीका लगने से पहले बच्चे को पोलियो की दवाइ पिलाई गई, जिसके बाद वह रोने लगा। बताया जा रहा है कि बच्चे को चुप करने मां ने दूध पिलाया और इसके कुछ देर में ही पेंटावैंलेट टीका लगने से पहले ही उसकी मौत हो गई। बच्चे की मौत से दु:खी परिजन ने अपना आपा खो दिया और हंगामा कर दिया जिससे जिला अस्पताल में भीड़ एकत्रित हो गई। परिजन ने डॉक्टर्स पर लापरवाही के आरोप लगाते हुए हंगामा किया, बच्चे का पीएम कराने से इनकार कर दिया, लेकिन बाद में पुलिस की समझाइश पर मामला शांत हो गया। परिजन ने डॉक्टर्स और नर्स पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं। पीड़ित परिजन के मुताबिक जब नर्स बच्चे को अंदर लेकर गई थी तो वो ठीक था।

 

सीएमएचओ बोले - दूध पीने से हो सकती है मौत
सीएमएचओ डॉ. सुधीर कुमार डेहरिया ने बताया कि बच्चे की मौत टीका लगने से पहले हुई है। पोलिया की दवा पिलाने के बाद मां ने बच्चे को दूध पिलाया। बताया गया है कि बच्चा रो रहा था, इस दौरान दूध का सांस नली और फेंफड़े में जाने की संभावना रहती है। यदि दूध सांस नली और फेफड़े में गया है तो मौत का कारण यह हो सकता है। बच्चे की मौत के कारण पीएम रिपोर्ट के बाद स्पष्ट होंगे, इसकी जांच कराई जाएगी। यदि किसी की लापरवाही है तो निश्चित कार्रवाई होगी।

देखें वीडियो- मनेरी इस्पात फैक्ट्री में हादसा