कोरोना बचाव के लिए बेसिक स्कूलों के छात्रों को ड्रेस के साथ मास्क भी देगी सरकार

|

Updated: 07 Aug 2020, 12:24 PM IST

  • बिना मास्क नहीं मिलेगा स्कूल में प्रवेश
  • क्लास में मास्क लगाकर ही होगी पढ़ाई

सहारनपुर ( Saharanpur) कोरोना वायरस ( Corona virus) से बचने के लिए अब बेसिक स्कूलों ( government school ) के छात्र-छात्राओं को सरकार (up goverment ) ड्रेस के साथ मास्क भी देगी। स्कूल खुलने पर बच्चों को मास्क लगाकर ही स्कूल जाना होगा। बच्चे, मास्क नहीं होने का बहाना ना बना सके इसीलिए शासन ने ड्रेस के साथ प्रत्येक छात्र को दो-दो मास्क देने की बात कही है।

यह भी पढ़ें: यूपी: शामली के जंगलों में चल रही थी तमंचा फैक्ट्री

ड्रेस के साथ मिलने वाले मास्क, ड्रेस की तरह ही वॉशेबल होंगे। एक मास्क को एक दिन इस्तेमाल करने के बाद धूल दिया जाएगा। इस तरह हर दिन धुला हुआ मास्क पहनकर ही बच्चे स्कूल पहुंचेंगे। बेसिक शिक्षा अधिकारी रविंद्र कुमार सिंह ने ड्रेस में मास्क के शामिल किये जाने की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि सभी स्कूलों में मास्क अनिवार्य कर दिया गया है। जब स्कूल खुलेंगे तो बच्चों को बिना मास्क स्कूल में एंट्री नहीं मिलेगी। इसी को देखते हुए शासन ने ड्रेस के साथ प्रत्येक बच्चे को दो-दो मास्क देने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

यह भी पढ़ें: अच्छी खबर अब 31 अगस्त तक फीस जमा करा सकेंगे बोर्ड के छात्र

ड्रेस वितरण के साथ अब बच्चों को दो-दो मास्क भी दिए जाएंगे। स्कूल खुलने पर सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखा जाएगा और क्लास में भी बच्चों के बीच दो गज की दूरी रखी जायेगी। इतना ही नहीं स्कूल आने वाले बच्चों के माता-पिता को भी जागरूक किया जाएगा। उनकी काउंसिलिंग की जाएगी और उन्हें कोरोना वायरस की जटिलताओं के साथ साथ वायरस से लड़ने का सही तरीका समझाया जाएगा। शिक्षा विभाग की ओर से प्रत्येक वर्ष बच्चों को ड्रेस वितरित की जाती है।

यह भी पढ़ें: इस बार लॉकडाउन के बीच होगी B.Ed प्रवेश परीक्षा, साेशल डिस्टेसिंग का अनुपालन बना चुनाैती

इस बार ड्रेस में मास्क को भी जोड़ लिया गया है और मास्क के साथ ही ड्रेस को पूर्ण ड्रेस माना जाएगा। बेसिक शिक्षा अधिकारी रविंद्र कुमार ने बताया कि स्कूल में बच्चों को दो जोड़ी यूनिफार्म के साथ दो -दो मास्क भी दिए जाएंगे ताकि बच्चों को कोरोनावायरस के खतरे से लड़ने में सहायता मिल सके। इस संबंध में सभी विद्यालय को निर्देशित कर दिया गया है बीईओ को भी निर्देशित किया गया है।