सियासत: एक हैंडपंप को लेकर कांग्रेस, बजरंगदल और भीम आर्मी आमने-सामने

|

Updated: 07 Jun 2021, 07:06 PM IST

दाे विधायक धरने पर बैठे ताे हिंदू दलों ने थाने में पढ़ी हनुमान चालीसा
24 घंटे के भीतर मामला गरमाया, अब भीम आर्मी ने भी दिया धरना

पत्रिका न्यूज़ नेटवर्क
सहारनपुर ( Saharanpur ) यूपी की प्रथम विधान सभा क्षेत्र में एक सरकारी नल काे लेकर राजनीतिक गरमा गई है। यहां प्रशासन ने एक नल काे उखाड़ दिया था। इसके बाद बेहट विधायक और सहारनपुर देहात विधायक मौके पर ही धरना देकर बैठ गए थे। इन्हाेंने कहा कि नल जहां से हटा है वहीं लगना चाहिए अफसराें के आश्वासन पर मामला शांत हो गया। अगले दिन बजरंदगल के कार्यकर्ताओं ने आस्तीनें चढ़ाते हुए प्रदर्शन कर दिया और थाने में हनुमान चालीसा का पाठ करते हुए साफ कह दिया कि नल अब दाेबारा उसी स्थान पर नहीं लगेगा। अभी इस पूरे घटनाक्रम काे 24 घंटे बीते नहीं थे कि अब यहां भीम आर्मी पदाधिकारी धरना देकर बैठ गए कि नल वहीं लगेगा जहां से हटा था।

यह भी पढ़ें: डीसीएम और ट्रक की भीषण टक्कर में दोनो वाहन धू धूकर जले, आग में जलकर चालक की मौत, दो घायल भर्ती

रविवार काे प्रशासन पर एक व्यक्ति विशेष को लाभ पहुंचाने के लिए सरकारी नल उखाड़ने का आरोप लगाते हुए बेहट विधायक नरेश सैनी धरने पर बैठ गए थे। इस दौरान जमकर हाई वोल्टेज हंगामा ड्रामा हुआ था। इनके साथ ही सहारनपुर देहात विधानसभा सीट से विधायक ( MLA ) मसूद अख्तर भी धरने पर बैठ गए थे। इस तरह दोनों विधायक करीब तीन घंटे तक धरने पर बैठे रहे। मामला मोहल्ला मनिहारान में सड़क किनारे लगे एक हैंडपंप का है। यह हैंडपंप एक दुकान के सामने लगा है। दुकान स्वामी ने शिकायत करके 25 साल पुराने हैंड पंप काे प्रशासन से हटवा दिया। इस कार्रवाई के विराेध में बेहट विधायक और सहारनपुर देहात विधायक धरना देकर बैठ गए। नगर पंचायत अध्यक्ष अब्दुल रहमान पूर्व एमएलसी उमर अली खान भी धरने में शामिल हाे गए। एसडीएम ने किसी तरह इन्हे समझा-बुझाकर शांत किया तो अगले दिन सोमवार को बजरंगदल ने माेर्चा खोल दिया और साफ कह दिया कि अब नल दोबारा उसी स्थान पर नहीं लगेगा। इन्हाेंने जाेरदार प्रदर्शन किया और थाने में हनुमान चालीसा का पाठ करने लगे। इसके बाद प्रशासनिक अफसराें ने इन्हे समझाबुझाकर शांत किया। इस तरह एक बार फिर पासा पलटता हुआ दिखाई दिया तो अब यहां भीम आर्मी ने आस्तीनें चढ़ा ली और धरना देकर बैठ गई। अब भीम आर्मी पदाधिकारियाें का कहना है कि जब तक दोबारा वह नल को मौके पर ही नहीं लगवा देते तब तक वह उठने वाले नहीं हैं। अब देखना यह है कि 2022 चुनाव से पहले एक नल काे लेकर यूपी की प्रथम विधानसभा क्षेत्र से शुरू हुई यह सियासी जंग कहां तक जाती है।

यह भी पढ़ें: राहत: हाई सिक्योरिटी नंबर प्लेट लगवाने की अवधि बढ़ी जानिए नया शेड्यूल

यह भी पढ़ें: जनता से अभद्र व्यवहार करने पर चौकी इंचार्ज समेत तीन पुलिसकर्मी सस्पेंड