हिंदू-मुस्लिम एकता का प्रतीक बनी MP की अमन एक्सप्रेस, दुनिया भर से मिल रही वाहवाही

|

Published: 11 Jul 2018, 03:26 PM IST

एक ओर कुरआन की आयतें तो दूसरी ओर गीता और वेद के श्लोक, एक वाहन में मिल रहा सभी धर्मों का ज्ञान

हिंदू-मुस्लिम एकता का प्रतीक बनी MP की अमन एक्सप्रेस, दुनिया भर से मिल रही वाहवाही

सतना। मध्यप्रदेश के सतना जिले में एक डॉक्टर ने अनोखी पहल शुरू की है। दो समुदायों के बीच एक रूपता लाने के लिए गीता और कुरआन का घर-घर जाकर महत्व बता रहे है। अमन एक्सप्रेस का उददेश्य, देश में अमन-शांति कायम रहे और भारत में सभी भाईचारे के साथ रहे। यात्रा की शुरुआत सतना के नजीराबाद निवासी डॉ. मो. आमिर निजामी ने अपने प्रोफेसर पिता के साथ मिलकर की है।

अमन एक्सप्रेस की यात्रा नजीराबाद से शुरू होकर सतना शहर के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर गीता और कुरआन का महत्व बताने के बाद खत्म होगी। प्रोफेसर का मानना है कि ज्यादातर लोग धर्म के बारे में नहीं जानते। इसलिए मार्ग से भटकर गलत दिशाओं में जाते है। जबकि सभी को धर्म के बारे में विस्तार से जानने की जरूरत है।

इंसान एक ही ईश्वर की संतान
हिंदू मुस्लिम एकता का प्रतीक अमन एक्सप्रेस बन चुकी है। यह मप्र की पहली ऐसी गाड़ी है जिसमें एक तरफ कुरआन की आयतें लिखी हैं तो दूसरी तरफ गीता और वेद के श्लोक लिखे हैं। यह इस बात को दर्शाता है कि हम समस्त इंसान एक ही ईश्वर की संतान हैं। उसी ईश्वर के सामने हमको अपना सिर झुकाना है। उसी की ही उपासना करनी है।

दो वर्ष से चल रही
अमन एक्सप्रेस लगभग दो वर्ष से सतना और आसपास के विभिन्न क्षेत्रों में अपना दौरा जारी रखे हैं। सतना के अलावा मैहर, रामनगर, अमरपाटन, बिरसिंहपुर, सोहावल, मझगवां-चित्रकूट, भटनवारा, पन्ना, सिंहपुर, माधवगढ़, रीवा, मुकुंदपुर, उचेहरा और आसपास के जितने भी कस्बे और गांव हैं, सभी जगह अमन एक्सप्रेस का दौरा जारी रहता है।

हिंदी में कुरआन आकर्षण का केंद्र
अमन एक्सप्रेस का मुख्य उद्देश्य है कि हम सब हिंदू मुस्लिम भाइयों के बीच आपसी भाईचारा पैदा हो। एक-दूसरे के धर्मग्रंथों का अध्ययन करें और एक ईश्वर की उपासना करें। अमन एक्सप्रेस में हिंदी में कुरआन, भगवत गीता में ईश्वर के आदेश, गलत फहमियों का निवारण, इस्लाम और हिंदू धर्म में समानताएं जैसी पुस्तकें हैं। यह जहां भी जाती है काफी संख्या में लोग आते हैं व किताबों का अवलोकन करते हैं।