भ्रमण के बहाने श्याम ने दिए भक्तों को मनोहारी दर्शन...

|

Published: 26 Mar 2021, 01:31 PM IST

1/6

नीले घोड़े पर सवार शीश के दानी जब नगर में निकले तो हजारों शीश समर्पण भरी श्रद्धा से झुक गए।

खाटूश्यामजी के फाल्गुनी लक्खी मेले में एकादशी पर रंगों से रंगे व भावों से भरे भक्त बाबा श्याम में एकीभाव हो गए। सलोने श्याम मानो साकार और भक्त उनमें एकाकार हो गए। उत्साह व उमंग में डूबा प्रेम पग-पग और रोम-रोम में उमग रहा था। नाचते-गाते भक्तों का आस्था से भरा आनंद व उल्लास भी ह्रदय में ना समाकर इत्र-फूलों की सौंधी सुगंध संग हर ओर उमड़-बिखर रहा था।