कश्मीर से 370 हटने के बाद गोल्फ कोर्स और होटल बनने की संभावना: CREDAI

|

Updated: 10 Aug 2019, 05:55 PM IST

  • क्रेडाई ने कहा, जम्मू से लद्दाख तक होगा रियल एस्टेट में निवेश
  • बिना पर्यावरण के छेड़छाड़ के बिना किया जाएगा विकास

नई दिल्ली। जब से जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटा है, तब से चर्चा गर्म है कि जम्मू से लद्दाख तक रियल एस्टेट को बूम मिलेगा। अब इस चर्चा को क्रेडाई ने और ज्यादा बल दे दिया है। क्रेडाई ने साफ कर दिया है कि वो इस फैसले का ही इंतजार कर रहे थे, कि कब यहां से 370 को हटाया जाएगा। अब रियल एस्टेट डेवलपर्स लद्दाख तक निवेश करेंगे। क्रेडाई ने साफतौर पर कहा कि राज्य की सौंदर्यता और पर्यावरण को नुकसान किए बिना ही यहां पर निवेश और विकास किया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- Petrol Diesel Price Today: डीजल की कीमत में लगातार तीसरे दिन कटौती, पेट्रोल के दाम स्थिर

बन रही हैं संभावनाएं
क्रेडाई के चेयरमैन जैक्से शाह ने एक मीडिया संस्थान से बातचीत में कहा कि वो इसी का इंतजार कर रहे थे। ताकि राज्य में हाउसिंग और कर्मशियल प्रोजेक्ट्स को ला सके। उन्होंने कहा कि यहां पर टूरिज्म को और अधिक बढ़ावा देने के लिए गोल्फ कोर्स का निर्माण किए जाने की संभावना बन गई है। वहीं फाइव स्टार होटल और दूसरी योजनाओं को शुरू करने की संभावनाओं पर काम किया जाएगा। उन्होंने इस बात की भी तसल्ल्ली दी कि रियल एस्टेट के थ्रू जो भी काम या विकास किया जाएगा वो पर्यावरण को ध्यान में रखकर और यहां की सौंदर्यता को बिगाड़े बिना ही काम किया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः- साप्ताहिक समीक्षाः चार हफ्तों की गिरावट पर लगा ब्रेक, सेंसेक्स-निफ्टी में आई तेजी

सुस्ती के बाद भी डटे हैं डेवलपर्स
क्रेडाई चेयरमैन के अनुसार उनकी इजरायल के तेल अवीव से सालाना बैठक चल रह है। उन्हें इस बात की खुशी है कि रियल एस्टेट में सुस्ती होने के बाद रियल एस्टेट कारोबारी मजबूती के साथ खड़े हुए हैं। जो उनकी दृढ़ता को प्रदर्शित करता हैै। क्रेडाई प्रेसीडेंट सतीश सागर ने प्रेस कांफ्रेस को संबोधित करते हुए मांग करते हुए कहा कि होम लोन ब्याज दरों को 7.5 फीसदी तक करना चाहिए। वहीं क्रेडाई ले रियल एस्टेट में लिक्विडीटी बढ़ाने पर भी जोर दिया। वहीं कई फरेरम्स की समस्या को हल करने और रेरा को प्रमुख एजेंसी बनाने को कहा। वहीं अफोर्डेबल हाउजिंग में 45 लाख रुपए की ऊपरी सीमा को हटाने की मांग की।

 

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.