ऑक्सीजन कमी हुई तो मध्यप्रदेश के BJP MLA ने दे दिया दोस्ती का वास्ता

|

Updated: 18 Apr 2021, 08:38 PM IST

कोरोना वायरस का संक्रमण बढऩे के साथ ही इससे संक्रमित होने वाले मरीजों की संख्या लगातार बढती जा रही है। रतलाम सहित देशभर में ऑक्सीजन की कमी से सरकारें व्यवस्था करने में लगी हुई है, लेकिन मध्यप्रदेश में एक विधायक ने अपने शहर के मेडिकल अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी होने पर अपने वर्षो पूर्व के एक दोस्त को दोस्ती का वास्ता दिया और गाजियाबाद से 20 टन आक्सीजन की व्यवस्था कर ली है।

रतलाम. कोरोना वायरस का संक्रमण बढऩे के साथ ही इससे संक्रमित होने वाले मरीजों की संख्या लगातार बढती जा रही है। रतलाम सहित देशभर में ऑक्सीजन की कमी से सरकारें व्यवस्था करने में लगी हुई है, लेकिन मध्यप्रदेश में एक विधायक ने अपने शहर के मेडिकल अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी होने पर अपने वर्षो पूर्व के एक दोस्त को दोस्ती का वास्ता दिया और गाजियाबाद से 20 टन आक्सीजन की व्यवस्था कर ली है।

शहर के मेडिकल कॉलेज को जल्दी ही 20 टन याने की 2200 किलो ऑक्सीजन मिलेगी। विधायक चेतन्य काश्यप ने बताया वे कोरोना संक्रमण से शिकार मरीजों को ऑक्सीजन की आपूर्ति निर्बाद कराने के लिए लगातार प्रयासरत है। शनिवार को उन्होंने समाजसेवी सुशील अजमेरा के माध्यम से गाजियाबाद में संपर्क कर निजी अस्पतालों के लिए ऑक्सीजन का प्रबंध किया। इससे शहर को 20 टन (2200 सिलेंडर ) ऑक्सीजन मिलेगी और निजी अस्पतालों में मरीजों के लिए 8-10 दिन की ऑक्सीजन का प्रबंधन हो जाएगा।

सोमवार को हो जाएगी आपुर्ति
विधायक काश्यप ने बताया कि गाजियाबाद से ऑक्सीजन 1-2 दिन में रतलाम आ जाएगा। इससे शहर के सभी कोविड का ईलाज कर रहे निजी अस्पतालों को ऑक्सीजन की पूर्ति की जाएगी। शहर के महावीर ऑक्सीजन प्लांट में आज भी 13 टन (1500 सिलेंडर )ऑक्सीजन का टेंकर पहुंचा है। निजी के साथ शासकीय किसी भी स्तर पर न ऑक्सीजन की कमी ना हो, इसके प्रयास लगातार जारी है। शहर को मिले 13 टन और जल्द आने वाले 20 टन ऑक्सीजन में से शासकीय मेडिकल कालेज के लिए 1000 सिलेंडर अतिरिक्त भरकर रखे जायेंगे और निजी अस्पतालों को भी ऑक्सीजन की आपूर्ति की जाएगी, ताकि कहीं भी ऑक्सीजन की कमी ना हो। काश्यप ने बताया कि मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए शुक्रवार रात ही निंबाहेड़ा से 450 सिलेण्डर की व्यवस्था की गई थी। इसमें से 150 सिलेण्डर रतलाम पहुंच चुके है।