Lockdown: पैदल मजदूरों पर पिघली योगी सरकार, रामपुर में बसों से घरों को भेजे गए मजदूर

|

Published: 27 Mar 2020, 09:03 PM IST

Highlights

  • पैदल जा रहे मजदूरों की खबर पर पिघली योगी सरकार
  • सभी जिलों से बसों का इंतजाम करने के आदेश
  • आधा दर्जन बसों से भेजे गए मजदूर
  • वाहन उपलब्ध कराने के साथ भोजन भी उपलब्ध करवाया

रामपुर: कोरोना वायरस के चलते देश भर में 21 दिन का लॉकडाउन कर दिया गया है। जिसका विपरीत असर गैर राज्यों में काम कर रहे मजदूरों पर देखने को मिल रहा है। जो हजारों की संख्या में वाहन न मिलने से अपने-अपने गांवों की ओर पैदल ही चल दिए हैं। मामला सरकार के सामने आने के बाद सभी जिलों में इन मजदूरों के लिए उनके जिले में भेजने की व्यवस्था करने के आदेश दिए गए हैं। इसी के तहत आज रामपुर डीएम आंजनेय कुमार ने रामपुर रोडवेज बसों से मजदूरों को उनके लखनऊ तक भिजवाया। उसके बाद वहां का प्रशासन इंतजाम करेगा। यही नहीं उनके खाने-पीने का इंतजाम करेगा। मजदूर भी प्रशासन का शुक्रिया अदा करते नजर आए।

बागपत: आइसोलेशन से भाग गया कोरोना आशंकित मरीज, पुलिस ने गांव जाने से पहले ही पकड़ा

 

पैदल कर दिया 200 किलोमीटर का सफ़र

राजधानी दिल्ली और नोएडा से पैदल पैदल रामपुर पहुंचे हैं। कोई अपनी रिक्शा से ही रामपुर आ गया हैरत की बात तो यह है कि राजधानी लखनऊ से लेकर मुरादाबाद तक किसी ने ना तो उन्हें रोका और ना ही किसी ने उनका मेडिकल चेकअप कराया। दुर्भाग्य भी है कि रामपुर प्रशासन ने उनके घर जाने की व्यवस्था तो करा दी लेकिन उनका मेडिकल परीक्षण नहीं कराया है। अब ऐसे में यह देखना दिलचस्प होगा कि जहां-जहां यह लोग अपने घर पहुंच रहे हैं वहां वहां के स्वास्थ्य कर्मचारी अधिकारी इन का मेडिकल परीक्षण कराएंगे। क्योंकि जहां से यह लोग आ रहे हैं वहां पर कोरोना वायरस का कहर है।

Lockdown के बीच खाना लेकर पहुंचे अधिकारी, गरीबों के खिल उठे चेहरे

लखनऊ तक छोड़ा जाएगा

बस चालक ने बताया कि रामपुर जिला अधिकारी और हमारे एआरएम ने आदेश दिया है कि आप राजधानी लखनऊ तक बस ले जाएं। वहां तक इन्हें छोड़ दिए वहां से आगे का इंतजाम राजधानी प्रशासन करेगा। जिसमें लखनऊ समेत आसपास के जिलों के लोग हैं। कुछ लोग बिहार के भी हैं इसके अलावा उत्तराखंड राज्य के आसपास रहने वाले लोगों को भी एक बस में सवार करके भेजा है। बाकी के लोग जिला रामपुर के आसपास के रहने वाले हैं। उनके लिए एक बस की अलग से व्यवस्था की गई है। सभी को अलग-अलग बैठाकर बस रवाना कर दी है। बस को पूरी तरह से सैनिटाइज इस कराया गया है।