Latest News in Hindi

दुकानदार की पिटाई कर निगली जहरीली गोलियां

By Laxman Singh Rathore

Sep, 12 2018 09:34:47 (IST)

गंभीर हालत में महिला उदयपुर रेफर
लेनदेन विवाद में महिला का हंगामा, पहुंची पुलिस

नाथद्वारा. लाल बाजार में बुधवार को एक महिला ने बकाया पैसे देने की बात कहते हुए दुकानदार से गाली गलोच करते हुए एक व्यक्ति की जूतों से पिटाई कर दी। बाद में जहरीली गोलियां खा ली, जिसे मौके पर पहुंची पुलिस ने अस्पताल पहुंचाया, जहां से गंभीर हालत में उदयपुर रेफर कर दिया।
जानकारी के अनुसार कांकरोली निवासी पूजा गुर्जर नाथद्वारा के लाल बाजार पहुंची, जहां प्रकाशचन्द्र, रमेश चन्द्र बंब की दुकान के बाहर बैठ जमीन के बकाया पैसे देने की मांग करने लगी। साथ ही चिल्लाते हुए चेतावनी दी कि अगर पैसे नहीं दिए तो वह जहरीली गोलिया खा लेगी। आरोप था कि दोनों भाई के साथ बागोल निवासी विष्णु पुरोहित द्वारा पैसे नहीं दिए जा रहे हैं। आरोप लगाया कि एक दिन पहले भी आरोपितों ने उससे अवैध संबंध बनाने का दबाव बनाया। महिला के चीखने, चिल्लाने की आवाज पर कई लोग एकत्रित हो गए। तभी विष्णु कुछ बोलने लगा, तो महिला ने उसे जूते से पिटाई कर दी। सूचना पर एएसआई जोधसिंह, एएसआई सुखलाल मय महिला कांस्टेबल के मौके पर पहुंचे और उसे तुरंत अस्पताल ले गए, जहां से प्राथमिक उपचार कर उदयपुर रेफर कर दिया। इधर, रमेश बंब ने बताया कि महिला से कोई लेनदेन नहीं है। एएसआई जोधसिंह ने बताया कि जांच की जा रही है। जांच में जो भी सामने आएगा, उस अनुसार कार्रवाई की जाएगी।

घूसखोरी का आरोपी देलवाड़ा सरपंच निलम्बित
राजसमंद. रिश्वत लेते भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा रंगे हाथ पकड़े गए खमनोर पंचायत समिति की देलवाड़ा ग्राम पंचायत के सरपंच दिनेश पालीवाल को पंचायती राज विभाग ने निलम्बित कर दिया है। जिला परिषद सूत्रों के अनुसार राज्य सरकार ने पंचायती राज अधिनियम के प्रावधानों के तहत निलम्बन आदेश जारी कर दिया। सीईओ गोविन्द सिंह राणावत ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि अग्रिम आदेशों तक निलम्बन प्रभावी रहेगा। गौरतलब है कि गत दो अप्रेल को एसीबी, राजसमंद की टीम ने पुलिस थाना देलवाड़ा में थानाधिकारी माधव सिंह और सरपंच पालीवाल को २० हजार रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। यह राशि शांतिभंग के आरोप में गिरफ्तार एक आरोपित की फाइल बंद करने की एवज में मांगी गई थी। पैसा सरपंच के माध्यम से थानेदार ने मांगा था। शिकायत का सत्यापन होने के बाद एसीबी ने कार्रवाई को अंजाम दिया।