कहीं हवन तो कहीं रामायण पाठ

|

Published: 27 Mar 2018, 05:47 PM IST

चैत्र नवरात्र की हुई पूर्णाहुति

कहीं हवन तो कहीं रामायण पाठ

सालमगढ़ यहां नौ दिवसीय नवरात्र की पूर्णाहुति मंगलवार को हुई।यहां मंदिर में अखंड रामायण पाठ के बाद हवन का आयोजन किया गया। संकट मोचन हनुमान मंदिर पर आयोजित की जा रही नव दिवसीय अखंड रामायण पाठ का पारायण हुआ। इसके बाद हवन व आरती का आयोजन किया गया। साथ ही हनुमान जन्मोत्सव को लेकर भी तैयारियां मंडल द्वारा की जा रही है।
खेडिय़ा माताजी में कद्दू की बलि
बरखेड़ी
निकटवर्ती मां चामुंडा माता मंदिर में नवरात्र पूर्णाहुति पर कद्दू की बलि चढ़ाई गई। इसके साथ ही यहां आगामी वर्ष के लिए वाणी सुनाई गई। यहां कई सांस्कृतिक कार्यक्रम की भी प्रस्तुति दी गई। गौरतलब है कि यहां मात्र चढ़ावे की पूंजी से भव्य आकर्षक मन्दिर बना हुआ है। यहां के पुजारी भेरुलाल मीणा ने वाणी सुनाई।जिसमें बातया कि दूसरे ज्येष्ठ सुदी ग्यारस को मामूली बारिश हो सकती है। आषाढ़ विदी पंचमी को बारिश हो सकती है। आषाढ़ सुदी पंचमी को भरपूर बारिश होने की संभावना है। फसल अच्छी होगी।इस मंदिर पर किसी भी प्रकार की जीव बलि नहीं देकर कद्दू की बलि दी जाती है। यहां 15 अपे्रल से 22 अप्रेल तक मंगल कलश यात्रा व कथा का आयोजन, नव कुण्डीय महायज्ञ व शांतिकुंज हरिद्वार के रामशरण ब्रह्मचारी के मुखारविंद से रामकथा का शुभ आयोजन किया जा रहा है।
दलोट. हनुमान जयंती पर तीन दिवसीय खेड़ापति हनुमान मंदिर का मेले का आयोजन किया जाएगा। यह मेला 31 मार्च से शुरू होगा। जिसमें दिन में हवन एवं महाप्रसादी व रात में चेन्नई की आर्केस्ट्रा आयोजन रखा गया। मेले के दूसरे दिन कवि सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। जिसमें जगदीश सोलंकी कोटा, कवियत्री माही बांसवाड़ा, कमलेश दवे नागदा, शंकरलाल पटेल, पुष्पेंद्र पुष्प बडनग़र, विष्णु विश्वास खाचरोद, चेतन चर्चित लखनऊ, लोकेश भट्ट दलोट, रामू हठीला कवि सम्मिलित होंगे। मेले में पोकरण की रामलीला का आयोजन भी किया जाएगा। मेले में मौत का कुआं, झूले चकरिया आदि लगने लगे है। मेला कमेटी अध्यक्ष घनश्याम गुडलक, उपाध्यक्ष महावीर पाटीदार, भंवर दलाल, महिपाल राठौर, बालू नरेगा, कोषाध्यक्ष पप्पू नंबरदार, जितेंद्र कुमावत, सचिव अशोक कुमावत, भगत मिस्त्री, सह सचिव डी एल नागर, रमेश प्रजापत, मंदिर निर्माण समिति अध्यक्ष मुन्नालाल प्रजापत, मंदिर पुजारी पंडित गेंदालाल शर्मा, सरपंच इंदिरा मीणा, विद्युत व्यवस्था रविशंकर पाटीदार, सुरक्षा व्यवस्था थाना प्रभारी बुधाराम विश्नोई, चौकी प्रभारी अमर सिंह आदि कमेटी में सम्मिलित है। मेले में भूखंड का आवंटन 30 मार्च से होगा। मेले में अंतिम दिन रावण दहन का कार्यक्रम होगा।
=====================================
ग्रामीणो को जागरूक रहकर लेना होगा योजनाओं का लाभ-नागर
-नायन में हुआ जिला स्तरीय रात्रि चौपाल का आयोजन
प्रतापगढ़.
जिले की पीपलखूंट पंचायत समिति की नायन ग्राम पंचायत में आयोजित हुई जिला स्तरीय रात्रि चौपाल में पंचायत को गौरवशाली पंचायत बनाने एवं विभिन्न योजनाओं में पात्र परिवारों को लाभान्वित करने पर ग्रामीणो से सीधा संवाद कर निर्णय लिये गए। कार्यवाहक जिला कलक्टर ने स्वच्छ भारत मिशन अभियान में अधूरे शौचालयो का निर्माण एवं उनके उपयोग पर ग्रामीणो से विस्तार से बात की। उन्होंने कहा कि रात्रि चौपालों के माध्यम से जहां ग्रामीणों से सीधा संवाद कर लाभान्वितो की आंकड़ो व वास्तविक स्थिति जानी जा सकती है। उन्होंने ग्रामीणो एवं जनप्रतिनिधियों से कहा कि वे जागरूक रहे और केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार की विभिन्न व्यक्तिगत व सामूहिक लाभ की विभिन्न योजनाओ से पात्रा परिवारो को लाभान्वित कराएं। उन्होंने ग्राम सचिव सहित ग्रामीणों से कहा कि वे प्रधानमंत्री योजना के अधूरे रहे आवास एवं शौचालय 10 अप्रैल तक आवश्यक रूप से पूर्ण कराएं ताकि किश्त की राशि उनके खातो में हस्तांतरित की जा सके। रात्रि चौपाल में खाद्य सुरक्षा सूची में नाम जुड़वाने, सामाजिक सुरक्षा पेंशन स्वीकृत करने, वृद्धा से विधवा पेंशन में परिवर्तित कर पेंशन दो गुनी करने सहित अन्य प्रकरणो में अतिरिक्त जिला कलक्टर ने प्रार्थियो से सीधा संवाद किया और उपस्थित अधिकारियो को तत्काल निराकरण के निर्देश दिए गए। जिला परिषद के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी जगदीशचन्द हेड़ा रात्रि चौपाल में वित्तीय वर्ष 2016 -17 एवं 2017-18 में प्रधानमंत्री आवास योजना में आवास आवंटन, निर्माण एवं किश्त भुगतान तथा स्वच्छ भारत मिशन अभियान में शौचालय निर्माण एवं राशि भुगतान की विस्तार से जानकारी दी। श्रम कल्याण अधिकारी ने रात्रि चौपाल में श्रमिक कार्ड के लाभकारी फायदे बताए और शुभशक्ति एवं सुलभ आवास योजना की जानकारी दी। इसके अलावा विभिन्न विभागो ने काउण्टर लगाकर ग्रामीणों का मौके पर ही समाधान किया। इस अवसर पर पीपलखुंट उपखण्ड अधिकारी सौरभ स्वामी, विकास अधिकारी, सरपंच सहित अधिकारी, जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीणमौजूद रहे।