West Bengal: ममता बनर्जी बोलीं- बंगाली और गैर-बंगालियों में फूट डाल रही भाजपा

|

Updated: 28 Jan 2021, 10:48 PM IST

  • पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) में विधानसभा चुनाव को लेकर सियासी हलचल तेज हो चली है
  • ममता बनर्जी ने भाजपा पर बंगाली और गैर-बंगालियों के बीच फूट डालने का आरोप लगाया

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव ( Assembly Election in West Bengal ) को लेकर सियासी हलचल तेज हो चली हैं। यही वजह है कि राजनीतिक दलों के बीच सियासी बयानबाजी तीखी हो चली है। इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव में जहां भारतीय जनता पार्टी ( BJP ) पूर्ण बहूमत की सरकार बनाने का दावा कर रही है, वहीं टीएमसी सुप्रीमों और राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ( West Bengal CM Mamata Banerjee ) भाजपा को उसकी औकात बताने का दम भर रही हैं। इन्हीं सियासी आरोप-प्रत्यारोपों के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को भाजपा पर जमकर निशाना साधा। ममता बनर्जी ने भाजपा पर बंगाली और गैर-बंगालियों के बीच फूट डालने का आरोप लगाया। उन्होंने चुनाव में राज्य के हिन्दी भाषी लोगों से उनकी पार्टी को सपोर्ट करने की भी अपील की।

Ghazipur border पर प्रशासन के साथ बातचीत के दौरान अचानक रो पड़े राकेश टिकैत, बोली यह बात

हिन्दू-मुस्लिम राजनीति हाशिए पर पहुंच गई

इस दौरान ममता बनर्जी ने कहा कि वह पश्चिम बंगाल में रहने वाले लोगों के लिए सबकुछ करने को तैयार हैं, लेकिन भाजपा को बंगाल में किसी कीमत पर नहीं घुसने दिया जाएगा। सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि भााजपा अब औछी राजनीति का परिचय देते हुए बंगाली और गैर-बंगाली में फूट डालने का काम कर रही है। तृणमूल कांग्रेस के मुख्यालय पर हिंदी भाषी लोगों को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि अब भाजपा के लोगों की एक न चल पाएगी, क्योंकि हिन्दू-मुस्लिम राजनीति हाशिए पर पहुंच गई है। टीएमसी प्रमुख ने भाजपा पर आगामी विधानसभा चुनाव को देखते हुए पश्चिम बंगाल में बाहरी लोगों को बसाने का भी आरोप लगाया। ममता ने लोगों से मुखातिब होते हुए कहा कि अब आप लोगों पर बड़ी जिम्मेदारी है, क्योंकि मैं चाहती है कि बंगालियों से ज्यादा आप हमारे समर्थन में वोट डालें, ताकि भविष्य में दिखा संकू कि मैं आप लोगों के लिए क्या कर सकती हूं।

BJP Spokesperson Gopal Krishna Agarwal बोले- गेम चेंजर होगा आने वाला मोदी सरकार का बजट

किसान आंदोलन को समर्थन दिया

उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल के चाय बागान वाले इलाकों और उत्तरी बंगाल में शिक्षा को सुविधाजनक बनाने के लिए स्कूल-कॉलेजों मेंं हिन्दी भाषा को खोल दिया गया है। उन्होंने कहा कि बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों का उनमें और उनकी सरकार में पूरा विश्वास है। ममता बनर्जी ने कृषि कानूनों को लेकर भी भाजपा सरकार पर जमकर हमला बोलो। ममता ने कहा है कि उन्होंने किसान आंदोलन को समर्थन दिया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में गणतंत्र दिवस के दिन हुई हिंसा में किसानों की कोई गलती नहीं है। उन्होंने कहा कि जब हर कोई घबरा रहा था, तब वो ही थी, जो किसानों के साथ खड़ी हुईं थी। उन्होंने दिल्ली में हुई हिंसा को किसानों का नहीं, बल्कि सरकार की इंटेलिजेंस फेल्योर का कसूर बताया।

ममता बनर्जी ने कहा कि जिस शख्स ने लाल किले पर झंडा फराया, वह तस्वीरों में अमित शाह औ प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी के साथ खड़ा हुआ नजर आ रहा है।