मछुआरों पर राहुल गांधी के बयान से भड़के केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह, कह दी इतनी बड़ी बात

|

Published: 24 Feb 2021, 12:38 PM IST

  • मछुआरों पर राहुल गांधी के बयान से भड़की बीजेपी
  • केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने बताया दिमागी दिवालियापन
  • संदीप दीक्षित ने राहुल को दी ऐसे बयानों से बचने की सलाह

नई दिल्ली। केरल ( Kerala ) दौरे पर गए कांग्रेस नेता और वायनाड से सांसद राहुल गांधी ( Rahul Gandhi )के बयान ने बीजेपी के खेमे में हलचल बढ़ा दी है। राहुल गांधी ने कहा कि किसानों की तरह मछुआरों के लिए भी दिल्ली में अलग से मंत्रालय की जरूरत है। राहुल गांधी के इस बयान को केन्द्रीय मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री गिरिराज सिंह ( Giriraj Singh) ने आड़े हाथों लिया है।

गिरिराज ने सवाल करते हुए पूछा है कि आखिर यह दिमागी दिवालियापन है या फिर सोची समझी साजिश। उन्हें राहुल पर देश में भ्रम फैलाने का आरोप लगाया।

शिरडी के साईं मंदिर में दर्शनों को लेकर हुआ बड़ा बदलाव, जानिए क्या है नया शेड्यूल और नियम

ये था राहुल गांधी का बयान
केरल के कोल्लम में मछुआरों को संबोधित करते हुए बुधवार को राहुल गांधी ने कहा- जिस तरह के किसान जमीन पर खेती करते हैं उसी तरह आप भी समुद्र में खेती करते हैं। किसानों के लिए दिल्ली में एक मंत्रालय है और आपके लिए नहीं... पहली चीज जो मुझे करना है वह ये कि भारत के मछुआरों के लिए एक मंत्रालय हो ताकि वे वह आपके मुद्दों को देखा जा सके।

बस फिर क्या था बीजेपी के खेमे में राहुल गांधी के इस बयान ने हड़कंप मचा दिया। एक बार के बाद एक नेताओं की प्रतिक्रिया आना शुरू हो गई। सबसे पहले केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने रिएक्शन दिया।

उन्होंने कहा- संसद में खुद फिशरी मंत्रालय से सवाल पूछते हैं? जब जवाब में भ्रम फैलाने वाला अफीम नहीं मिलता है तब देश में घूम घूम कर भ्रम फैलाते हैं। यह दिमागी दिवालियापन है या सोची समझी साजिश? यह लोगों को सोचना है।

गिरिराज सिंह के बाद मुख्तार अब्बास नकवी ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने राहुल गांधी के बयान को पिटे हुए पॉलिटिकल प्लेयर की हताशा बताया।

अब दिल्ली में इतनी आसान नहीं होगी एंट्री, देश के इन पांच राज्यों से आने वालों को पूरी करना होगी ये खास शर्त

कांग्रेस नेता ने दी ये सलाह
कांग्रेस नेता संदीप दीक्षित ने राहुल गांधी के दिए बयान पर कहा कि, राहुल गांधी ने क्या कहा है.. उस पर मैं नही कहूंगा। इस चीज से, हमें परहेज रखना चाहिए। राज्य में राज्य के बारे में बोलें, लेकिन ऐसे बयानों में बचना चाहिए।