खतरे में नीतीश सरकार! RJD नेता का दावा, हमारे संपर्क में 17 JDU विधायक

|

Updated: 30 Dec 2020, 11:06 AM IST

  • RJD नेता श्याम रजक का दावा
  • राजद के संपर्क में हैं जेडीयू के 17 विधायक
  • रजक का दावाः बीजेपी से नाराज है जेडीयू विधायक

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव जीतकर सत्ता पर काबिज हुई नीतीश सरकार ( Nitish Govt ) पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। ये दावा है राष्ट्रीय जनता दल ( RJD ) के एक नेता का। आरजेडी नेता श्याम रजक ( Shyam Rajak ) की मानें तो नीतीश सरकार कभी भी गिर सकती है। इसकी वजह है जेडीयू के 17 विधायकों की बगावत, जो आरजेडी के संपर्क में बने हुए हैं।

आरजेडी नेता के इस दावे में जरा भी सच्चाई रही तो बिहार की सियासत में एक बार फिर बड़ा उबाल देखने को मिलेगा। आपको बता दें कि इससे पहले लालू प्रसाद यादव का एक कथित ऑडियो भी वायरल हुआ था, जिसमें वे बीजेपी विधायक को आरजेडी जॉइन करने के लिए ऑफर दे रहे थे। बीजेपी विधायक ने इसकी पुष्टि भी की थी।

एक जनवरी से दोबारा खुलने जा रहे हैं स्कूल, जानिए आपके राज्य में सरकार ने क्या जारी किए निर्देश

इस वजह से विधायकों में नाराजगी
आरजेडी नेता श्याम रजक ने बिहार में नीतीश सरकार को लेकर बड़ा दावा किया है। श्याम रजक ने कहा है कि जेडीयू के विधायक बीजेपी की कार्यशैली से नाराज हैं और बिहार की एनडीए सरकार को गिराना चाहते हैं।
श्याम रजक के मुताबिक जेडीयू के 17 विधायक आरजेडी के संपर्क में हैं और ये जल्द ही आरजेडी में शामिल होंगे।

तेजस्वी के करीबी हैं रजक
जेडीयू विधायकों को लेकर दावा करने वाले श्याम रजक तेजस्वी यादव के काफी करीबी माने जाते हैं। उनका कहना है कि जेडीयू के 17 विधायक उनके जरिए आरजेडी में शामिल होने की इच्छा जता चुके हैं और जल्द ही पार्टी जॉइन भी कर लेंगे। हालांकि उन्हें अभी पार्टी ने रोका हुआ है।

रद्द हो सकती है सदस्यता
दरअसल इन विधायकों के एक साथ पार्टी में शामिल करने से रोकने की वजह बताते हुए श्याम रजक ने कहा कि 17 विधायक आरजेडी में शामिल होंगे तो दल-बदल कानून के अंतर्गत इनकी सदस्यता रद्द हो सकती है। यही वजह है कि फिलहाल पार्टी इस पर विचार कर रही है।

उन्होंने कहा कि दल-बदल कानून के तहत जेडीयू के 25 से 26 विधायक पार्टी छोड़कर आरजेडी में शामिल होंगे तो ही उनकी सदस्यता पर आंच नहीं आएगी।

कुछ और विधायकों का इंतजार
रजक ने कहा कि आरजेडी फिलहाल कुछ और जेडीयू विधायकों के लालटेन थामने का इंतजार किया जा रहा है। उम्मीद है जल्द ही अन्य विधायक भी जेडीयू छोड़ने का मन बना लेंगे।

इसलिए बीजेपी से नाराज
जेडीयू विधायकों की नाराजगी की सबसे बड़ी वजह अरुणाचल प्रदेश में बीजेपी का एक्शन है। अरुणाचल में जिस तरीके से जेडीयू के 6 विधायकों को बीजेपी ने अपनी पार्टी में शामिल किया, उससे जेडीयू के कई नेता खफा हो गए।

बीजेपी का ये रवैया बताता है कि वे नीतीश कुमार पर हावी होने की कोशिश कर रही है। यही वजह है कि अब जेडीयू विधायक बिहार में पार्टी छोड़ आरजेडी में शामिल होकर एनडीए को सबक सिखाने का बन बना रहे हैं।

जेडीयू ने दी सफाई
आरजेडी नेता के इस दावे पर जेडीयू की ओर से भी प्रतिक्रिया आई है। जेडीयू ने इसे निराधार बताते हुए भ्रामक करार दिया है। जेडीयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि वह ऐसे भ्रामक बयान देकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। जेडीयू पूरी तरीके से एकजुट है और बीजेपी के साथ मिलकर 5 साल बिहार में सरकार चलाएगी।

महिला डॉक्टरों की बढ़ी मुश्किल, ऑनलाइन कंसलटेशन के दौरान फर्जी मरीज करते हैं अश्लील हरकतें और भद्दे कमेंट

ये सीटों का गणित
243 सदस्यों वाली बिहार विधानसभा में बहुमत के लिए 122 सीटें चाहिए। नवंबर में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव में एनडीए को 125 और आरजेडी की अगुवाई वाली महागठबंधन को 110 सीटें मिली हैं। ऐसे में आरजेडी को सिर्फ 12 सीटों की जरूरत है। 17 विधायक टूटते हैं तो एनडीए सरकार गिरना तय है।