पश्चिम बंगाल में दोस्त से ही दूरी बना रहे हैं राहुल गांधी! जानिए क्या है पीछे की वजह

|

Published: 25 Feb 2021, 10:11 AM IST

  • पश्चिम बंगाल में लेफ्ट को साइड कर रही कांग्रेस
  • राहुल गांधी लेफ्ट के साथ नहीं करेंगे संयुक्त रैली
  • दक्षिण राज्यों पर है राहुल गांधी का फोकस

नई दिल्ली। देश की राजनीति में लगातार अपने वजूद से जूझ रही कांग्रेस ( Congress ) के लिए चुनौतियां कम होने का नाम नहीं ले रही है। आगामी पांच राज्यों के चुनावों को लेकर भी कांग्रेस अब तक कोई आक्रामक रुख नहीं दिखा पाई है और ना कि उनके तरकश में इन राज्यों में कोई फायरब्रांड चेहरे सामने आए हैं। उधर पश्चिम बंगाल ( West Bengal ) का विधानसभा चुनाव बीजेपी और टीएमसी के लिए नाक का सवाल बन चुका है।

लेकिन इन सबके बीच बंगाल में ही कांग्रेस को जगह बनाने के लिए कड़ी मशक्कत करना पड़ रही है।
खुद राहुल गांधी बंगाल में अपने ही दोस्त यानी लेफ्ट पार्टी से दूरी बना रहे हैं। बताया जा रहा है कि वे बंगाल में आने वाले समय में साझा रैलियों में हिस्सा नहीं लेंगे। आईए जानते हैं क्या है पीछे की वजह।

पेट्रोल-डीजल के बाद अब ट्रेनों का भी बढ़ा किराया, भारतीय रेलवे इन ट्रेनों के किराया बढ़ाने के पीछे बताई ये वजह

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव को अब ज्यादा वक्त नहीं रह गया है। कभी चुनाव आयोग तारीकों का ऐलान कर सकता है। ऐसे में राजनीतिक दल अपनी-अपनी जीत के लिए तैयारियों में जुटे हैं। इस बीच कांग्रेस ने अपने दोस्त यानी लेफ्ट पार्टी से एक तरह की दूरी बना ली है।

दरअसल चुनाव से पहले कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों के बीच सीटों को लेकर पेच फंस गया है। इसी का असर है कि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी अब बंगाल में होने वाली दोनों पार्टियों की साझा रैली में हिस्सा नहीं लेंगे।

रविवार को कोलकाता में लेफ्ट और कांग्रेस की संयुक्त रैली होनी है, अब इसमें राहुल गांधी नहीं जाएंगे।
राहुल गांधी की जगह कांग्रेस की ओर से छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जनसभा में शामिल होंगे।

आपको बता दें कि बंगाल में कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों ने साथ में चुनाव लड़ने की बात तो कही है, लेकिन अभी सीटों को लेकर कोई समझौता नहीं हो सका है। अब इसी का असर रैलियों पर पड़ता दिख रहा है।

दक्षिण पर राहुल की नजर
बीजेपी और टीएमसी की टक्कर के बीच शायद कांग्रेस ने बंगाल में हथियार डाल दिए हैं। यही वजह है कि राहुल गांधी ने अपना पूरा फोकस दक्षिण राज्यों पर केंद्रित कर दिया है।

राहुल गांधी 27 फरवरी से 1 मार्च तक तमिलनाडु के दौरे पर रहेंगे। कांग्रेस सांसद अभी भी केरल के दौरे पर हैं और लगातार दक्षिण राज्यों के चुनावों पर फोकस किए हुए हैं।

केरल दौरे पर रहते हुए कांग्रेस सांसद राहुल गांधी के निशाने पर लेफ्ट की सरकार रही, उन्होंने लेफ्ट पर निशाना साधा। ऐसे में अब जब बंगाल में कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियां साथ में चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही हैं तो बीजेपी को उनके घेरने का एक और मौका मिल गया है।

देश के इन राज्यों में बारिश के बीच जारी हुआ आंधी का अलर्ट, एक बार फिर बढ़ने वाली सर्दी

अब तक राहुल की बंगाल में कोई बड़ी रैली नहीं
बंगाल में अभी कांग्रेस की ओर से अधीर रंजन चौधरी ने ही प्रचार की कमान संभाली हुई है, उनके अलावा कई अन्य नेताओं ने भी चुनावी सभा की हैं। हालांकि, कांग्रेस नेता राहुल गांधी की बात करें तो उन्होंने बंगाल में कोई बड़ी रैली नहीं की है।