Latest News in Hindi

रफाल विवाद : राहुल की दो टूक, किसी भी कीमत पर कोई भी कांग्रेसी वकील नहीं लड़ेगा अंबानी का केस

By Dhirendra Kumar Mishra

Sep, 12 2018 01:59:02 (IST)

वरिष्‍ठ नेताओं से मंत्रणा के बाद रफाल मुद्दे पर पार्टी को किरकिरी से बचाने के लिए यह कदम उठाया गया।

नई दिल्‍ली। कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने रफाल मुद्दे पर एक अहम फैसला लेते हुए पार्टी के दिग्‍गज वकीलों से साफ कर दिया है कि वो लोग अंबानी का केस किसी भी कीमत पर नहीं लड़ेंगे। यह कदम उन्‍होंने पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं के साथ मंत्रणा के बाद उठाया है। इसके पीछे पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं का तर्क यह है कि पार्टी इस मुद्दे पर किसी से समझौता नहीं करेगी। नेताओं को इस बात की भी आशंका है कि अंबानी का केस लड़ने पर पार्टी की अदालत में किरकिरी न हो जाए या फिर विरोध की धार कुंद न पड़ जाए, इसलिए कांग्रेस के वकील रफाल मुद्दे पर अंबानी का केस न लड़ें।

खुली जंग को दावत
दरअसल, कांग्रेस पार्टी ने मोदी सरकार और अंबानी ग्रुप के खिलाफ रफाल सौदे को लेकर खुली जंग छेड़ रखी है। यह मसला अब केवल राजनीतिक मसला नहीं रह गया। बल्कि कानूनी जंग में तब्‍दील हो चुका है। पिछले कई दिनों से राहुल गांधी ने रफाल विमान सौदे में अनिल अंबानी के खिलाफ अभियान चला रखा है। वो मोदी सरकार के साथ-साथ अनिल अंबानी पर भी लगातार आरोप लगा रहे हैं। वह रफाल को लोकसभा चुना का सबसे बड़ा मुद्दा बनाना चाहते हैं। यही वजह है कि संसद से लेकर सड़क तक राहुल गांधी और कांग्रेस के नेताओं की फौज रफाल मुद्दे पर पीएम मोदी के साथ ही उद्योगपति अनिल अंबानी और उनकी कंपनी को लगातार निशाने पर रखा है।

अंबानी ग्रुप ने भेजा नोटिस
कांग्रेस के इस रुख को देखते हुए अनिल अंबानी और उनकी कंपनी ने तमाम कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह सरीखे नेताओं पर करोड़ों का मानहानि का दावा ठोंकते हुए नोटिस भेजा है। इसके जवाब में सभी नेताओं ने कहा है कि वो डरने वाले नहीं हैं और राफेल मुद्दे को उठाते रहेंगे। अब कांग्रेस के तमाम नेताओं और पार्टी के युवाध्यक्ष राहुल गांधी को चिंता सता रही है कि एक तरफ वो अनिल अंबानी और उनकी कंपनी पर भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहे हैं, तो दूसरी तरफ कहीं ऐसा ना हो कि पार्टी का कोई बड़ा वकील अनिल अंबानी ग्रुप के पक्ष में कोई केस लड़ता पाया जाए क्योंकि इससे बड़े पैमाने पर पार्टी की किरकिरी हो सकती है।

वकीलों को दी स्‍टैंड की जानकारी
जानकारी के मुताबिक इन आशंकाओं को भांपते हुए कैलास मानसरोवर यात्रा से लौटते ही पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने उनसे इस सिलसिले में चर्चा की। नेताओं ने राहुल से कहा कि अंदरखाने पार्टी के नामी-गिरामी वकीलों को इस बावत सचेत कर दिया जाए। राहुल गांधी ने भी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की इस सलाह पर सहमति दे दी है। इसके बाद खुद पेशे से वकील और राफेल मुद्दे पर नोटिस पा चुके पार्टी के मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने अभिषेक सिंघवी, कपिल सिब्बल, अश्विनी कुमार, जयबीर शेरगिल जैसे नेताओं को पार्टी का स्टैंड साफ कर दिया है। जरूरत पड़ने पर राहुल गांधी पी चिदंबरम, सलमान खुर्शीद और मनीष तिवारी सरीखे बड़े नेताओं से इस बारे में जरूरी सलाह ले सकते हैं।

Related Stories