ये हैं बांसुरी वाले मास्साब...एक हादसे ने बांसुरी से जोड़ा अनोखा रिश्ता

|

Published: 11 Nov 2020, 04:02 PM IST

आमतौर पर शिक्षक को देखकर बच्चों के मन में डर होता है लेकिन एक शिक्षक ऐसे भी हैं जिनसे बच्चे डरते नहीं हैं बल्कि उनकी ओर खिंचे चले आते हैं..

कटनी. कोरोना संक्रमण काल में ऐसे कई शिक्षकों के वीडियो और खबरें सामने आईं जिन्होंने बच्चों की शिक्षा के प्रति अपने जज्बे और हौसले से सुर्खियां तो बटोरीं ही साथ ही लोगों का दिल भी जीता। ऐसे ही एक शिक्षक हैं कटनी के महेन्द्र सिंह ठाकुर। शिक्षक महेन्द्र सिंह ठाकुर को बच्चे और गांव के लोग बांसुरी वाले मास्साब या बांसुरी वाले गुरुजी कहकर बुलाते हैं। इसकी वजह है शिक्षक महेन्द्र सिंह ठाकुर और बांसुरी का वो खास रिश्ता जो बीते कई साल से वक्त के साथ और भी गहरा होता जा रहा है।

मोहल्ला क्लास और बांसुरी वादन
बांसुरी वाले गुरुजी के नाम से पुकारे जाने वाले शिक्षक महेन्द्र सिंह ठाकुर कटनी जिले की माध्यमिक शाला गौरा में टीचर हैं। शिक्षक महेन्द्र बताते हैं कोरोना संक्रमण का असर बच्चों की पढ़ाई के साथ साथ शिक्षकों की दिनचर्या पर भी पड़ा है। मोहल्ला क्लास और घर पर बच्चों को पढ़ाने के बाद अब शिक्षक भी कुछ न कुछ नया करने के प्रयासों में जुट गए हैं। महेन्द्र ने बताया कि वो बच्चों को पढ़ाने के बाद स्कूल में आकर खाली समय मिलने पर बांसुरी बजाते हैं। कई बार बच्चों की डिमांड पर भी उन्हें बांसुरी बजानी पड़ती है। उनका ये भी कहना है कि पहले जब कक्षाएं लगती थीं तो वो बच्चों को उनकी रुचि के अनुसार संगीत की शिक्षा देने की कोशिश भी करते थे।

देखें वीडियो-

 

बांसुरी से बची थीं टूट रहीं सांसें
बांसुरी से शिक्षक महेन्द्र के लगाव के पीछे भी एक अजीब कहानी है। वो बताते हैं कि एक बार उनका एक्सीडेंट हो गया था और तब जब उनकी सांसें उखड़ रही थीं तो बैग में रखी बांसुरी पर हाथ पड़ने के बाद उनकी उम्मीद जागी और जिंदगी बच गई। तब से वो मानते हैं कि बांसुरी ने ही उनकी जिंदगी बचाई है और हमेशा बांसुरी को अपने पास रखते हैं जब भी वक्त मिलता है तो बांसुरी बजाकर साधना में लीन हो जाते हैं।