मेडिकल रिपोर्ट में खुलासा: किडनी समेत 16 तरह की बीमारियों से ग्रसित हैं लालू यादव

|

Updated: 24 Dec 2020, 08:46 PM IST

  • लालू प्रसाद यादव की सेहत को लेकर बड़ा खुलासा
  • किडनी समेत 16 बीमारियों से ग्रसित राजद अध्यक्ष

नई दिल्ली। देश के बहूचर्चित चारा घोटाला ( fodder scam ) में सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव ( Lalu Prasad Yadav ) की मेडिकल रिपोर्ट ने उनके समर्थकों को चिंता में डाल दिया है। दरअसल, रांची स्थित रिम्स में लालू यादव ( Lalu Yadav ) का इलाज कर रहे डॉक्टर उमेश प्रसाद की ओर से जारी मेडिकल रिपोर्ट में बताया गया कि उनकी किडनी संबंधी बीमारी लास्ट स्टेज में पहुंच चुकी है। इसलिए राजद अध्यक्ष को किसी भी समय डायलिसिस की जरूरत पड़ सकती है।

बच्चों को नहीं दी लगाई जाएगी Corona vaccine, जानिए किस उम्र के लोग ज्यादा असुरक्षित

लालू प्रसाद यादव पिछले तीन सालों से जेल में बंद

आपको बता दें कि चारा घोटाला केस में लालू प्रसाद यादव पिछले तीन सालों से जेल में बंद हैं। इस बीच उनका स्वास्थ्य खराब रहने की वजह से उनको रिम्स में भर्ती कराया गया है। इससे पहले भी डॉक्टरों ने उनको किडनी संबंधी रोग होने की बात कही थी। वहीं, भारतीय जतना पार्टी ने लालू की बीमारी को लेकर आश्चर्य जताया है। भाजपा ने कहा कि किडनी रोग होने के बाद भी न तो लालू को नेफ्रोलॉजिस्ट को दिखाया गया है और न ही बड़े डॉक्टरों ने ऐसी कोई अनुशंसा की है।

Utility: 1 जनवरी से इन 10 नियमों में होने जा रहा बदलाव, साल खत्म होने से पहले हो जाएं अपडेट

लालू किडनी के साथ ही और भी कई बीमारियों से ग्रसित

दरअसल, राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव का इलाज डॉ. उमेश प्रसाद की यूनिट में चल रहा है। रिपोर्ट में बताया कि लालू किडनी के साथ ही और भी कई बीमारियों से ग्रसित हैं। गौरतलब है कि लालू प्रसाद यादव को चारा घोटाला के आरोप में तीन साल पहले 23 दिसंबर 2017 को जेल में भेजा गया था। जेल में उनकी तबीयत बिगडऩे के बाद पिछले ढ़ाई साल से रांची स्थित रिम्स में उनका इलाज कराया जा रहा है।

जेल में बंद राजद सुप्रीमो लालू यादव को अब डायलिसिस से गुजरना पड़ सकता है, क्योंकि उनकी दोनों किडनी केवल 25 फीसदी काम कर रही हैं। रांची के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) में लालू का इलाज कर रहे डॉ. उमेश प्रसाद ने कहा कि राजद प्रमुख की दोनों किडनी के काम करने में कोई सुधार नहीं हुआ है और उनकी हालत दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही है।