कोरोना की वैक्सीन लगवाकर बुरे फंसे कर्नाटक के ये मंत्री, जानिए क्या है वजह

|

Published: 03 Mar 2021, 12:47 PM IST

  • Corona Vaccine लगवाना कर्नाटक के कृषि मंत्री को पड़ा महंगा
  • प्रदेश में खड़ा हुआ नया विवाद
  • येदियुरप्पा सरकार की बढ़ सकती है चिंता

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन का दूसरा फेज शुरू हो चुका है। पीएम मोदी और दिग्गज नेताओं समेत लाखों लोग इस चरण के तहत अब तक टीका भी लगवा चुके हैं। लेकिन कर्नाटक के एक मंत्री कोरोना का टीका लगवाकर बुरी तरह फंस गए हैं।

दरअसल इस मंत्री के कोरोना का टीका लगवाने पर प्रदेश में नया विवाद खड़ा हो गया है। क्या है पूरा मामला आइए जानते हैं।

कोरोना वैक्सीन का दूसरा डोज लगवाने के कुछ देर बाद हुई इस शख्स की मौत, 15 मिनट तक रहा बेहोश

देशभर में चल रहे कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत लगातार लोग पहली खुराक लगवा रहे हैं। इस चरण में कई नेता और जानी-मानी हस्तियां भी अपनी श्रेणी के मुताबिक आगे होकर वैक्सीन का पहला डोज लगवा रही हैं।

लेकिन कर्नाटक में उस वक्त राजनीति गर्मा गई जब कृषि मंत्री बीसी पाटिल ने कोरोना का टीका लगवाया। दरअसल बीसी पाटिल को कोरोना की वैक्सीन लगाने के लिए डॉक्टर खुद उनके घर पर पहुंची। इस दौरान ना सिर्फ मंत्री जी बल्कि उनकी पत्नी को भी घर पर ही टीका लगाया गया।

मंत्री को टीकाकरण के फोटोज इसके बाद सोशल मीडिया (Social Media) पर वायरल हो गए। जैसे ही ये फोटो सोशल मीडिया पर सामने आए प्रदेश में नया विवाद खड़ा हो गया।

दरअसल डॉक्टर्स ने बेंगलूरु से 336 किमी दूर हीरेकरुर जाकर मंत्री को वैक्सीन लगाई।

तस्वीरें देखकर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा। लोगों का कहना था कि मंत्री ने अपनी ताकत का दुरुपयोग किया है।

मंत्री ने बताया ये कारण
वहीं एक स्थानीय चैनल को प्रतिक्रिया देते हुए मंत्री ने कहा 'घर में कई लोग मौजूद थे और मुझे अस्पताल में करीब आधे घंटे इंतजार करना पड़ता। यही कारण रहा कि मैंने घर पर ही लगवाया।'

इसके अलावा उन्होंने कहा कि कुछ विशेषाधिकार थे और घर पर वैक्सीन लिए जाने के फैसले को गलत नहीं समझा जाना चाहिए।

पाटिल ने कहा कि उन्होंने खुद ही स्वास्थ्य अधिकारियों को निवास पर टीका लगाने के लिए बुलाया था। आपको बता दें कि जब सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली स्थित एम्स जाकर टीका लगवाया तो उन्होंने अन्य पार्टी नेताओं से भी आग्रह किया कि वे अस्पताल जाकर ही वैक्सीन लगवाएं।

बावजूद इसके नेता हैं कि वीआईपी कल्चर से बाहर ही नहीं आना चाहते।

बढ़ सकती है येदियुरप्पा की मुश्किल

आपको बता दें कि कर्नाटक में पहले ही बीएस येडियुरप्पा के नेतृत्व वाली सरकार परेशानियों का सामना कर रही है। ऐसे में इस वैक्सीन मामले ने राज्य में विपक्षी दलों को सरकार पर हमला करने के लिए नया हथियार दे दिया है।

कर्नाटक में 'सेक्स टेप' के बाद मचा हड़कंप, इस दिग्गज मंत्री के खिलाफ दर्ज हुई शिकायत

विरोधियों ने भी साधा निशाना
राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा, 'इस सरकार में कोई भी कुछ भी कर सकता है।' उन्होंने मंत्री पाटिल पर सवाल उठाते हुए कहा कि लोगों की सेवा करने के बजाए पाटिल लोगों को अपनी सेवा में लगा रहे हैं।