Haryana : बरोदा सीट से कांग्रेस के इंदु राज आगे, बीजेपी के योगेश्वर दत्त पीछे, सीएम की प्रतिष्ठा दांव पर

|

Updated: 10 Nov 2020, 12:01 PM IST

  • बरोदा में योगेश्वर दत्त इंदू राज से पीछे चल रहे हैं।
  • कांग्रेस नेता कृष्ण हुड्डा के निधन के बाद यह सीट खाली हुई थी।

नई दिल्ली। बिहार विधानसभा चुनाव के साथ हरियाणा में बरोदा सीट पर हुए विधानसभा उपचुनाव की मतगणना भी सुबह से जारी है। इस सीट पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर सरकार की प्रतिष्ठा दांव पर है। फिलहाल बरोदा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी इंदु राज आगे हैं। जबकि भारतीय जनता पार्टी के योगेश्वर दत्त पीछे छूट गए हैं। इंदू राज बीजेपी प्रत्याशी योगेश्वर दत्त से 2843 मतों से पीछे हैं।

हरियाणा में बरोदा सीट कांग्रेस का गढ़ रही है। यहां से कांग्रेस के कृष्ण हुड्डा ने 2009, 2014 और 2019 में लगातार तीन बार जीत हासिल की है। कांग्रेस नेता कृष्ण हुड्डा का निधन इसी साल अप्रैल में हो गया था। उनके निधन के बाद से यह सीट खाली हो गई थी।

भारतीय चुनाव आयोग ने कोविड -19 के मद्देनजर स्टार प्रचारकों की संख्या घटाई

तीन दिन पहले आए एग्जिट पोल में बरोदा सीट बीजेपी के खाते में जाने की बात कही गई थी। एग्जिट पोल के रुझानों से कांग्रेस की चिंता बढ़ गई थी, लेकिन हार जीत का फैसला वोटों की गिनती समाप्त होने के बाद ही तय हो पाएगा।

बरोदा सीट का समीकरण

इस बार बरोदा सीट पर उपचुनाव के लिए 280 मतदान केंद्रों पर 1.81 लाख मतदाताओं ने वोट डाला था। कांग्रेस ने इस बार इंदु राज नरवाल को अपना प्रत्याशी बनाया है। इंदु राज सोनीपत जिला परिषद के पूर्व सदस्य रह चुके हैं। इंडियन नेशनल लोकदल की ओर से जोगिंदर मलिक मैदान में है। जबकि बीजेपी के प्रत्याशी अंतरराष्ट्रीय पहलवान योगेश्वर दत्त हैं। योगेश्वर दत्त ओलंपियन पहलवान रह चुके हैं। विधानसभा चुनाव में योगेश्वर दत्त कांग्रेस उम्मीदवार कृष्ण हुड्डा से 4,800 वोटों से हार गए थे।

UP By-Election Results : 7 सीटों पर मतगणना जारी, 5 पर बीजेपी, 2 पर सपा आगे

बीजेपी जीत को लेकर आश्वस्त

दूसरी तरफ योगेश्वर दत्त के पिछड़ने के बावजूद बीजेपी को इस सीट से जीत का भरोसा है। उपचुनाव में उनके लिए खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और डेप्युटी सीएम दुष्यंत चौटाला ने प्रचार किया था। योगेश्वर की कुश्ती में मिली उपलब्धियों को भी प्रचार में लोगों तक खूब बताया गया। लेकिन ताजा रुझानों से सीएम मनोहर लाल खट्टर की प्रतिष्ठा दांव पर है।