जिंदगी में पांच बार फूट-फूटकर रोए कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, जानिए कौन से थे वो मौके?

|

Updated: 09 Feb 2021, 06:28 PM IST

  • Congress leader Ghulam Nabi Azad की विदाई के दौरान PM Narendra Modi भावुक हो गए
  • PM मोदी के बाद Congress MP Ghulam Nabi Azad भी अपने आप को भावुक होने से रोक न सके

नई दिल्ली। राज्यसभा में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ( Congress leader Ghulam Nabi Azad ) की मंगलवार को हुई विदाई के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) भावुक हो गए। विपक्ष के नेता आजाद का इस महीने उच्च सदन में कार्यकाल खत्म हो रहा है। उनके अलावा 3 और सदस्यों का कार्यकाल भी खत्म हो रहा है। प्रधानमंत्री मोदी के बाद कांग्रेस सांसद गुलाम नबी आजाद ( Congress MP Ghulam Nabi Azad ) भी अपने आप को भावुक होने से रोक न सके। जिस घटना का प्रधामंत्री मोदी ने जिक्र किया, उसको याद करते हुए आजाद ने कहा कि उस समय वो चिल्लाकर रोए थे।

खुश खबरी: LPG गैस का कनेक्शन लेने पर मिलेंगे 1600 रुपए, जानिए कैसे करें आदेवन

 

आसुंओं के साथ फूट-फूटकर रोए

आपको बता दें कि गुलाम नबी आजाद मंगलवार को राज्यसभा में अपने विदाई भाषण के मौके पर बोल रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि उनके जीवन में पांच ऐसे मौके आए जब वह आसुंओं के साथ फूट-फूटकर रोए और पूरी तरह से टूट गए। इन मौकों में से मुख्यत: संजय गांधी, इंदिरा गांधी और राजीव गांधी का दुनिया से जाना रहा। ये ऐसी दिन घटनाएं थी, जब वह चिल्ला चिल्लाकर रोए थे। आजाद ने कहा कि ऐसा तो वह अपने माता-पिता की मौत पर भी नहीं रो पाए थे। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि चौथी बार वह तेज-तेज जब रोए थे, जब वह ओडिशा में थे। उन्होंने बताया कि यह वह समय था, जब वह उनके पिता की तबीयत खराब हो गई थी और वह उनको हॉस्टिपल लेकर पहुंचे थे। जब उनको पता चला कि उनके पिता को कैंसर है। डॉक्टर ने उनको अपने पिता की साथ ही रहने की सलाह दी।

कांग्रेस के इस नेता का क्यों सम्मान करते हैं प्रधानमंत्री मोदी, भरे सदन में किया खुलासा

Farmer Protest: फिर बोले राकेश टिकैत, VIDEO में सरकार के नाम दिया यह संदेश

सोनिया गांधी का फोन आया

इस बीच शाम को सोनिया गांधी का फोन आया, जिन्होंने उनको ओडिशा जाने के लिए बोला। आजाद ने बताया कि सोनिया गांधी के फोन पर वह अपने पिता को छोड़कर वह ओडिशा चले गए। जहां पर उन्होंने समंदर के किनारे पर सैकड़ों लाशों को तैरते थे। ऐसा भयानक दृश्य देखकर वह अपने आप को रोक नहीं सके और फूट-फूट कर रोने लगे। पांचवीं बार का जिक्र करते हुए आजाद ने कहा कि यह वो समय था, जब गुजरात के पर्यटकों पर कश्मीर में आतंकी हमला हुआ था। उन्होंने बताया कि यह वो घटना थी, जिसने उनके दिल को हिला दिया था। गुजरात के पर्यटक कश्मीर घूमने पहुंचे थे, इसबीच आतंकियों ने उनकी बस पर हमला कर दिया।