जी-23 की बैठक में गुलाम नबी आजाद बोले - सभी को समान नजरिए से देखना हमारी सबसे बड़ी ताकत

|

Updated: 27 Feb 2021, 02:07 PM IST

  • असंतुष्ट नेताओं ने जी-23 की बैठक कर दिया सख्त संदेश।
  • कांग्रेस में लोकतंत्र बहाली की मांग ने पकड़ी जोर।

नई दिल्ली। कांग्रेस सांसद राहुल गांधी द्वारा उत्तर-दक्षिण भारत को लेकर दिए गए बयान से नाराज ं कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने आज गुलाम नबी आजाद के जम्मू स्थित आवास पर शांति सम्मेलन का आयोजन किया गया। सम्मेलन का आयोजन कर जी-23 गुट के नेताओं ने कांग्रेस आलाकमान का सख्त संदेश दिया है। इस बैठक में कांग्रेस जी-23 गुट के वरिष्ठ नेता व जम्मू-कश्मीर से जुड़े संसद, विधायक और अन्य नेता शामिल हुए।

शांति सम्मेलन के साथ ही कांग्रेस में एक बार फिर असंतष्ट गुट यानि जी-23 के नेताओं की गतिविधियां तेज हो गई हैं। इस बैठक में कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल व राज बब्बर व अन्य पहुंचे।

शांति सम्मेलन के दौरान गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पिछले पांच से छह वर्षों में जम्मू-कश्मीर के सांसदों ने स्थानीय मुद्दों को उठाया। इनमें बेरोजगारी, स्पेशल स्टेटस को छीनने, उद्योगों और शिक्षा को खत्म करने, जीएसटी पर अमल का दुष्प्रभाव जैसे मुद्दे शामिल हैं।

उन्होंने कह कि जम्मू हो या कश्मीर या फिर लद्दाख हम सभी धर्मों के लोगों और जातियों का सम्मान करते हैं। हम सभी का समान रूप से सम्मान करते हैं। यही हमारी ताकत है। हम इसे आगे भी जारी रखेंगे।