Bihar: CM नीतीश पर राबड़ी देवी का पलटवार- लालू जी की वजह से आपका सियासी वजूद

|

Updated: 28 Nov 2020, 06:26 PM IST

  • बिहार में विधानसभा चुनाव के बाद से अब तक सियासी हलचल थमने का नाम नहीं ले रही
  • राबड़ी देवी ने नीतीश कुमार को राजनीति का वो समय याद दिलाया, जब उनको सहारे की जरूरत थी

 

नई दिल्ली। बिहार में विधानसभा चुनाव ( Bihar Assembly Election ) के बाद से अब तक सियासी हलचल थमने का नाम नहीं ले रही है। नई सरकार के गठन के बाद बिहार विधानमंडल ( Bihar Assembly ) का पहला सत्र काफी शोर शराबे की बीच गुजरा। राष्ट्रीय जनता दल के नेता और नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ( RJD Leader Tejashwi Yadav ) ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ( CM Nitish Kumar ) पर जहां जमकर निशाना साधा, वहीं JDU नेता ने भी उन पर जमकर तंज कसे। इस बीच बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ( Rabri Devi ) भी पीछे नहीं रहीं। उन्होंने नीतीश कुमार को उनकी राजनीति का वो समय याद दिलाया, जब उनको सहारे की जरूरत थी। राबड़ी देवी ने कहा कि 2015 में उनकी 80 सीटें थी, बावजूद इसके उन्होंने नीतीश कुमार को बिहार का मुख्यमंत्री बनाया।

दुनिया को एक नहीं कई बार डस चुके हैं खतरनाक वायरस, जानें महामारी का इतिहास

लालू जी ने आपको राजनीतिक जीवनदान प्रदान किया

पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने अपने ट्वीट में लिखा कि नीतीश कुमार कुतर्कों के योद्धा बन गए है। कह रहे तेजस्वी को उपमुख्यमंत्री बनाया। इनमें लोकलाज बची ही नहीं, बताइए सबसे बड़ी पार्टी और 80 विधायकों के नेता को उपमुख्यमंत्री बना नीतीश ने कौन सा अहसान कर दिया? शुक्रगुज़ार आपको लालू जी का होना चाहिए जो आपको राजनीतिक जीवनदान प्रदान किया। आपको बता दें कि तेजस्वी यादव ने सदन में सीएम नीतीश कुमार पर कई गंभीर आरोप लगाए थे। एक आरोप में नेता प्रतिपक्ष ने नीतीश कुमार को मर्डर केस का आरोपी बताया था। इसके साथ ही उन्होंने नीतीश कुमार पर कंटेंट चोरी का भी आरोप लगाया था।

Farmer Protest: बातचीत को तैयार मोदी सरकार, कृषि मंत्री बोले- किसानों का नुकसान न होने देंगे

तेजस्वी यादव उनके भाई जैसे दोस्त के बेटे

वहीं, तेजस्वी यादव की टिप्पणी से खफा नीतीश कुमार पहली बार आग बबूला दिखाई दिए। उन्होंने कहा कि वह केवल इस वजह से चुप्पी साधे रहते हैं क्योंकि तेजस्वी यादव उनके भाई जैसे दोस्त के बेटे हैं। नीतीश कुमार ने कहा कि उन्होंने कई बार तेजस्वी यादव के आरोपों को केवल यह सोच कर अनदेखा कर लिया कि वह समय के साथ अपने आप में सुधार ले आएंगे। लेकिन अब बस बहुत हुआ। अब इससे आगे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता।