नीतीश के विधायक की दबंगई, बोले- हथियार लेकर चलते हैं साथ, जरूरत पड़ेगा तो ठोक देंगे

|

Published: 09 Mar 2021, 12:27 PM IST

  • बिहार में नीतीश के सुशासन के सपने को विधायक ने दिखाया ठेंगा
  • गोपाल मंडल ने दिया विवादित बयान
  • बोले- जेब में रखता हूं रिवॉल्वर, जरूरत पड़ेगा तो ठोक देगा

नई दिल्ली। सुशासन बाबू को लेकर चर्चा में रहने वाले नीतीश भले ही बिहार में नियम-कानून की दुहाई देते हों, लेकिन हकीकत थोड़ी अलग है। खास तौर पर उनकी पार्टी के ही नेता नियम-कानून को जेब में रख कर चलते हैं।
ऐसा ही एक मामले एक बार फिर सामने आया जब जेडीयू के विधायक गोपाल मंडल ने अपने दंबगई दिखाकर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

गोपाल मंडल ने कहा कि जेब में हथियार लेकर चलते हैं, जरूरत पड़ेगा तो ठोक देंगे। आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला...

उत्तराखंड में कोई भी सीएम पूरे नहीं कर पाया अपने पांच साल का कार्यकाल, सिर्फ इस शख्स ने किया कमाल

दरअसल रविवार को जनता दल यूनाइटेड विधायक गोपाल मंडल को भागलपुर में ग्रामीणों ने बंधक बना लिया था। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि गोपाल मंडल 20 एकड़ की जमीन को कब्जा करने के लिए पहुंचे थे।

इस घटना को लेकर गोपाल मंडल से जब मीडिया सवाल करना शुरू किया तो विधायक महोदय के जवाब किसी रंगबाज से कम नहीं थे।

दबंगई दिखाते हुए उन्होंने कहा कि - किसी में इतनी हिम्मत नहीं कि मुझे बंधक बना ले। हम कमजोर आदमी नहीं है अपने साथ रिवाल्वर रखते हैं और जरूरत पड़ती तो सामने वाले को ठोक देते।

बनिया सब मेरे सामने टिकेगा
जेडीयू विधायक गोपाल मंडल ने कहा, 'गोपाल मंडल अगर बंधक हुआ तो समझो मर गया, हमसे ज्यादा लाठीबाज गांव वाले नहीं थे, बनिया सब मेरे सामने टिकेगा? एक बार हम लाठी पकड़ लेंगे तो कितने आदमी को झाड़ देंगे, लड़ाकू आदमी तो हम हैं ही, हमारे पास तो हमेशा रिवाल्वर रहता ही है, जरूरत पड़ेगा तो ठोक देंगे।'

गोपाल मंडल ने कहा कि वो जहां जाते हैं हथियारों के साथ जाते हैं। अपने लोगों के साथ वह जमीन की स्थिति जानने पहुंचे थे लेकिन स्थानीय लोगों ने उन्हें घेर लिया।

इस शख्स ने अपने प्रेम संंबंधों को लेकर पुलिस से मांगी मदद, कमिश्नर ने अमिताभ बच्चने के इस डायलॉग के जरिए दिया दिलचस्प जवाब

कोरोना काल में खरीदी थी जमीन
नीतीश के विधायक गोपाल मंडल ने दावा किया है कि उनकी 25 बीघा जमीन पर कुछ लोगों ने कब्जा किया है। कोरोना काल में ही जमीन खरीदी थी। लेकिन कोविड-19 के चलते अपनी जमीन देखने नहीं जा सके।

इस बीच उन्हें खबर मिली कि उनकी जमीन पर कुछ लोग निर्माण करा रहे हैं। उसी को वो देखने गए थे।

भले ही विधायक महोदय दावा कर रहे हों, लेकिन जिस अंदाज में बयान दे रहे हैं वो नया विवाद खड़ा कर सकता है। यही नहीं उनका ये बयान नीतीश के सुशासन के सपने को भी ठेंगा दिखा रहा है।