आज एकादशी पर कर सकते हैं ये शुभ कार्य, ऐसे लाभ उठाएं

|

Published: 13 Mar 2018, 10:07 AM IST

1/3

एकादशी नन्दा संज्ञक तिथि दोपहर बाद १.४१ तक, तदुपरान्त द्वादशी भद्रा संज्ञक तिथि है। एकादशी तिथि में विवाहादि मांगलिक कार्य, जनेऊ, देवकार्य, वास्तु-गृहारंभ, प्रवेश, यात्रा व व्रतोपवास आदि और द्वादशी तिथि में सभी चर व स्थिर कार्य, जनेऊ और विवाहादि मांगलिक कार्य शुभ होते हैं। नक्षत्र: उत्तराषाढ़ा ‘ध्रुव व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र दोपहर १२.३१ तक, इसके बाद श्रवण ‘चर व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र है। उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में विवाह, देवस्थापन, वास्तु-गृहारम्भ, यात्रा व प्रवेश आदि के कार्य और इसी प्रकार श्रवण नक्षत्र में देवस्थापन, घर, पुष्टता, कारीगरी, जनेऊ और वाहन, सवारी आदि विषयक कार्य शुभ कहे गए हैं।

Related Stories