आज रामनवमी पर बने ये शुभ मुहूर्त, इन उपायों से आप भी संवार सकते हैं भाग्य

|

Published: 25 Mar 2018, 09:44 AM IST

आज रामनवमी है, जो स्वयंसिद्ध अबूझ मुहूर्त है। जिसमें सभी शुभापेक्षित कार्य शुभ व सफल सिद्ध होते हैं। आज आठवें और नवें दोनों नवरात्रों के दो पाठ होंगे।

अष्टमी जया संज्ञक शुभ तिथि प्रात: ८.०३ तक, इसके बाद नवमी रिक्ता संज्ञक तिथि अंतरात्रि अगले दिन सूर्योदय पूर्व प्रात: ५.५५ तक है। इसके उपरांत सूर्योदय पूर्व ही दशमी तिथि प्रांम्भ हो जाएगी। इस प्रकार आज नवमी तिथि का क्षय हुआ है। आज रामनवमी है, जो स्वयंसिद्ध अबूझ मुहूर्त है। जिसमें सभी शुभापेक्षित कार्य शुभ व सफल सिद्ध होते हैं। आज आठवें और नवें दोनों नवरात्रों के दो पाठ होंगे।

शुभ वि.सं. : २०७५, संवत्सर नाम: विरोधकृत्, अयन: उत्तरायण, शाके: १९४०, हिजरी: १४३९, मु.मास: रज्जब-७, ऋतु: बसन्त, मास: चैत्र, पक्ष: शुक्ल।

नक्षत्र: आद्र्रा ‘तीक्ष्ण व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र दोपहर बाद २.२१ तक, इसके बाद पुनर्वसु ‘चर व तिङ्र्यंमुख’ संज्ञक नक्षत्र है। आज तो श्रीराम नवमी का स्वयंसिद्ध अनबूझ मुहूर्त है। जिसमें सभी शुभ कार्य शुभ होते हैं।

विशिष्ट योग: दोपहर बाद २.२१ से दोष समूह नाशक रवियोग शक्तिशाली शुभ योग है। जो कुयोगों की अशुभताओं को नष्ट कर शुभ कार्यारंभ के लिए मार्ग प्रशस्त करता है। चंद्रमा: सम्पूर्ण दिवारात्रि मिथुन में है।

वारकृत्य कार्य : रविवार को सामान्यत: सभी स्थिर कार्य, राज्याभिषेक, पदारूढ़ होना, यान यात्राा तथा यज्ञादि-मंत्रोपदेश आदि कार्य करने योग्य हैं।

दिशाशूल : रविवार को पश्चिम दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। पर आज मिथुन राशि के चंद्रमा का वास पश्चिम दिशा की यात्रा में सम्मुख रहेगा। ध्यान रहें- यात्रा में सम्मुख चंद्रमा धनलाभ कराने वाला व शुभ माना गया है।

श्रेष्ठ चौघडि़ए
आज प्रात: ८.०० से दोपहर १२.३३ तक क्रमश: चर, लाभ व अमृत तथा दोपहर बाद २.०४ से अपराह्न ३.३५ तक शुभ के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं एवं दोपहर १२.०९ से दोपहर १२.५७ तक अभिजित नामक श्रेष्ठ मुहूर्त है, जो आवश्यक शुभकार्यारम्भ के लिए अत्युत्तम हैं।

राहुकाल
सायं ४.३० बजे से सायं ६.०० बजे तक राहुकाल वेला में शुभ कार्यारंभ यथासंभव वर्जित रखना हितकर है।

शुभ मुहूर्त
२६ मार्च : नामकरण, अन्नप्राशन, हलप्रवहण आदि पुनर्वसु नक्षत्र में तथा विपणि-व्यापारारम्भ पुष्य में।
२७ मार्च : हलप्रवहण पुष्य नक्षत्र में।
३१ मार्च : विपणि-व्यापारारम्भ हस्त में।
१४ मार्च २०१८ से १३ अप्रेल २०१८ तक मीन का मलमास दोष है अत: विवाहादि मांगलिक कार्यादि के शुभ व शुद्ध मुहूर्त नहीं है।

Related Stories