महादेव : यहां हैं भगवान शिव के पैरों के निशान

|

Published: 02 Feb 2021, 04:09 PM IST

भगवान शिव के पैरों के निशान का दर्शन करना अपने आप में अद्भुत अनुभव...

Lord Shiva Sripad- यहां मौजूद हैं भगवान महादेव के कदमों के निशान

सनातन धर्म के आदि पंच देवों व त्रिदेवों में से एक भगवान शंकर हैं। जिन्हें देवाधिदेव महादेव, शिव, आशुतोष, भोलेनाथ सहित कई नामों से जाना जाता है। सनातन धर्म के अनुसार ये संहार के देवता हैं। वहीं इनका निवास कैलाश पर्वत माना जाता है। मान्यता है कि कैलाश पर ही रहते हुए वे कई जगहों पर आकाश मार्ग से भ्रमण करते थे।

इस दौरान कुछ विशेष परि‍स्थितियों में जहां भी उन्होंने धरती पर कदम रखें, वहां उनके पैरों के निशान बन गए। भारत में ऐसे कई निशान हैं, जिन्हें भगवान शिव के पैरों का निशान माना जाता है और इनके दर्शन करने पर अपने आप में अद्भुत अनुभव होता है। ऐसे में आज हम आपको उन कुछ महत्वपूर्ण स्थानों के बारे में बता रहे हैं, जहां के संबंध में मान्यता है कि यहां यहां भगवान शिव ने धरती पर अपने कदम रखे।

1. जागेश्वर धाम : यहां हैं शिव के पद चिह्न :
देवभूमि उत्तराखंड के अल्मोड़ा से 36 किलोमीटर दूर जागेश्वर मंदिर की पहाड़ी पर लगभग साढ़े 4 किलोमीटर दूर जंगल में एक ऐसा स्थान है, जहां शिव के पद चिह्न को साक्षात देखा जा सकता है। मान्यता है कि जब पांडव स्वर्ग जा रहे थे तब उनकी इच्छा शिवजी के दर्शन और उनके सान्निध्‍य में रहने की हुई, लेकिन शिवजी कैलाश पर्वत जाकर ध्यान करना चाहते थे। पांडव इसके लिए राजी नहीं हुए। तब शिवजी ने भीम से विश्राम करने के लिए कहा और वे चकमा देकर कैलाश चले गए। जहां से उन्होंने कैलाश के लिए प्रस्थान किया था, वहां उनके एक पैर का चिह्न बना हुआ है।

कहते हैं कि उन्होंने अपना दूसरा पैर कैलाश मानसरोवर क्षेत्र में रखा था। हालांकि उस पैर के बारे में कोई जानकारी नहीं है कि वह कहां रखा था। यह निशान करीब 1 फुट लंबा है जिसमें अंगूठे और अंगुलियों के निशान भी स्पष्ट रूप से देखे जा सकते हैं। यह निशान पत्थर पर काफी गहरा बना हुआ है।

धर्म के जानकार लोगों का कहना है कि एड़ी का यहां दबाव होने के कारण यह पता चलता है कि दूसरा पैर उठा हुआ होगा। जब कोई पैर जोर से रखा जाता है तो पीछे की ओर गहरा निशान हो जाता है।

कथा के अनुसार हजारों वर्ष पूर्व मोक्ष प्राप्ति के लिए पांडवों को शिवजी ने दर्शन दिए थे। भगवान शिव भीम के साथ काफी दिनों तक रहे और वे चाहते थे कि भीम और अन्य पांडव अब चले जाएं, लेकिन पांडव जब इसके लिए राजी नहीं हुए तो भगवान शिव उन्हें चकमा देकर कैलाश चले गए थे। पद चिह्न के पास यहां भीम का एक मंदिर बना हुआ है। मंदिर में मूर्ति नहीं है। 8वीं सदी में एक राजा ने यह मंदिर बनवाया था।

2. श्रीलंका में शिव के पद (Sivanolipaada) :

भारत के पड़ोसी देश श्रीलंका का एक पर्वत, जिसे श्रीपद चोटी भी कहा जाता है। अंग्रेजों के शासनकाल के दौरान गौरीशंकर पर्वत का नाम बदलकर एवरेस्ट करने की तरह ही इस श्रीपद चोटी का नाम भी अंग्रेजों ने आदम पीक रख दिया था।

हालांकि इस आदम पीक का पुराना नाम रत्न द्वीप पहाड़ है। इस पहाड़ पर एक मंदिर बना है। हिन्दू मान्यता के अनुसार यहां देवों के देव महादेव शंकर के पैरों के निशान हैं इसीलिए इस स्थान को सिवानोलीपदम (शिव का प्रकाश) भी कहा जाता है।

यह पदचिन्ह 5 फिट 7 इंच लंबे और 2 फिट 6 इंच चौडे हैं। यहां 2,224 मीटर की ऊंचाई पर स्‍थित इस 'श्रीपद' के दर्शन के लिए लाखों भक्त और सैलानी आते हैं। यहां से एशिया का सबसे अच्छा सूर्योदय भी देखा जा सकता है।

ईसाइयों ने इसके महत्व को समझते हुए यह प्रचारित कर दिया कि ये संत थॉमस के पैरों के चिह्न हैं। बौद्ध संप्रदाय के लोगों के अनुसार ये पद चिह्न गौतम बुद्ध के हैं। जबकि मुस्लिम संप्रदाय के लोगों के अनुसार पद चिह्न हजरत आदम के हैं। वहीं कुछ लोग तो रामसेतु को भी आदम पुल कहने लगे हैं।

वहीं जानकारों का कहना है कि इस पहाड़ के बारे में कहा जाता है कि यह पहाड़ ही वह पहाड़ है, जो द्रोणागिरि का एक टुकड़ा था और जिसे उठाकर हनुमानजी ले गए थे। श्रीलंका के दक्षिणी तट गाले में एक बहुत रोमांचित करने वाले इस पहाड़ को श्रीलंकाई लोग रहुमाशाला कांडा कहते हैं। हालांकि कुछ लोग कहते हैं कि वह द्रोणागिरि का पहाड़ था। द्रोणागिरि हिमालय में स्थित था। कहते हैं कि हनुमानजी हिमालय से ही यह पहाड़ उठाकर लाए थे, बाद में उन्होंने इसे (रहुमाशाला कांडा) को यहीं छोड़ दिया। मान्यताओं के अनुसार यह द्रोणागिरि पहाड़ का एक टुकड़ा है।

3. श्रीस्वेदारण्येश्‍वर मंदिर में रुद्र पद :

तमिलनाडु के थिरुवेंगडू क्षेत्र में श्रीस्वेदारण्येश्‍वर का मंदिर है, जहां भगवान शिव के पद चिह्न हैं जिसे 'रुद्र पदम' कहा जाता है। यह क्षेत्र नागपट्टिनम जिले में कुम्भकोणम से 59 किलोमीटर, मइलादुतुरै से 23 किलोमीटर और श्रीकाली पूम्पुहार रोड से 10 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में स्थित है।

4. शिव पद चिन्ह थिरूवन्नामलाई :

शिव के यह निशान भी तमिलनाडु राज्य के थिरूवन्नामलाई (Thiruvannamalai) में एक स्थान पर हैं।

5. शिवपद, रांची :

झारखंड के रांची में पहाड़ी पर स्थित नाग मंदिर में स्थित है। तीर्थ यात्रियों और पर्यटकों के लिए यह मंदिर आकर्षण का केंद्र हैं जहां श्रावण माह में एक नाग मंदिर में ही डेरा डाल देता हैं। इसे देखने के लिए भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ती है।

दरअसल, रांची रेलवे स्टेशन से 7 किलो मीटर की दुरी पर ‘रांची हिल’ पर शिवजी का अति प्राचीन मंदिर स्थित है जिसे की पहाड़ी मंदिर के नाम से जाना जाता है। यह मंदिर शहीद क्रांतिकारियों से भी जुड़ा हुआ है। पहाड़ी बाबा मंदिर का पुराना नाम टिरीबुरू था जो आगे चलकर ब्रिटिश हुकूमत के समय फांसी टुंगरी में परिवर्तित हो गया क्योकि अंग्रेजों के राज में देश भक्तों और क्रांतिकारियों को यहां फांसी पर लटकाया जाता था।

पहाड़ी बाबा मंदिर परिसर में मुख्य रूप से सात मंदिर है। भगवान शिव का मंदिर, महाकाल मंदिर, काली मंदिर, विश्वनाथ मंदिर, हनुमान मंदिर और नाग मंदिर। पहाड़ी पर जितने भी मंदिर बने हैं उनमे नागराज का मंदिर सबसे प्राचीन है। माना जाता है की छोटा नागपुर के नागवंशियों का इतिहास यही से शुरू हुआ है। ऐसी मान्यता हैं कि यहां पर शिव ने अपने पैर रखे थे।


6. रुद्रपद तेजपुर, असम :

शिव के पैरों के यह निशान असम के तेजपुर में ब्रह्मपुत्र नदी के पास स्थित रुद्रपद मंदिर में स्थित है। यहां उनके दाएं पैर का निशान है।