कोरोना में म्यूजिक बना बड़ा सहारा, पॉजिविटी का दे रहे हैं मैसेज

|

Published: 11 Oct 2020, 07:18 PM IST

- शहर के लोग क्वारंटीन टाइम में गिटार और की-बोर्ड पर हो रहे हैं एक्टिव

जयपुर. कोरोना ने लोगों की जिन्दगी में कई तरह के बदलाव लाए है। इस संकट के दौर में भी लोग सकारात्मक पहलूओं की तरफ ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं और इन सभी में संगीत अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। कोरोना पॉजिटव होने के बाद शरीर से नेगेटिविटी को दूर करने के लिए लोग म्यूजिक से जुड़ाव रख रहे हैं। म्यूजिक टीचर्स की मानें तो इस समय ऑनलाइन गिटार सीखने वाले लोगों की संख्या काफी बढ़ गई है, लोग क्वारंटीन टाइम में गिटार के साथ अपने अनुभवों को भी साझा करते नजर आ रहे हैं। कोरोना से बचाव के साथ खुद में पॉजिटिव एनर्जी के संचार के लिए लोग सोशल मीडिया पर गिटार और की-बोर्ड जैसे इंस्ट्रूमेंट्स के साथ प्रस्तुति देते भी नजर आ रहे हैं।


संगीत ने मानसिक रूप से मजबूत बनाया

उत्तर पश्चिम रेलवे के उपमहाप्रबंधक शशिकिरण ने बताया कि क्वॉरंटीन टाइम में संगीत ने सबसे अहम भूमिका निभाई। संगीत मेरी हॉबी रही है, ऐसे में गिटार और केसियो पर संगीत को एक्सप्लोर किया। रोज लगभग दो घंटे म्यूजिक सेशन में गुजरते हैं। मैंने पुराने गानों का मेडले तैयार किया और उसे फिर सोशल मीडिया पर शेयर किया। इसके जरिए लोगों को भी मैसेज देने का प्रयास किया कि ऐसे समय को किस तरह पॉजिटिव तरीके से यूटिलाइज किया जा सकता है। ऐसी बिमारियों में साइकोलॉजिकल रूप से कमजोर होते है, ऐसे में म्यूजिक ने हीलिंग की तरह की कार्य किया है।


बढ़ गई है संख्या

गिटार टीचर उत्तम माथुर ने बताया कि इस समय ऑनलाइन क्लासेज में गिटार सीखने के लिए हर उम्र के लोगों की संख्या बढ़ गई है। लोग अपने क्वारंटीन टाइम को म्यूजिक के साथ गुजारना पसंद कर रहे हैं। म्यूजिक न केवल तनाव कम करता है, बल्कि जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का भी संचार करता है। गिटार एक्सपर्ट पवन गोस्वामी ने बताया कि लोग एक से दो घंटे संगीत को डेडिकेट कर रहे हैं, क्वारंटीन टाइम में जयपुरवासी पर्सनल ऑनलाइन क्लासेज ले रहे हैं और सोशल मीडिया पर पॉजिटिव रहने के भी मैसेज दे रहे हैं। इसके अलावा कई ऐप भी आ गई है, जिनके जरिए भी लोग म्यूजिक को एक्सप्लोर करने में जुटे हुए हैं।