राइफल से कमाण्डो की मौत के मामले में नया मोड़, डिप्टी व एसएचओ के खिलाफ मामला दर्ज

|

Published: 02 Aug 2021, 07:53 AM IST

-मृतक कमाण्डो के भाई ने करवाया मामला दर्ज, जांच में तथ्य बदलने के आरोप

पाली/जैतारण। जिले के जैतारण क्षेत्र के बर चौराहे पर गत वर्ष राइफल की गोली चलने से जोधपुर पुलिस के कमाण्डो अशोक विश्नोई की मौत के मामले में नया मोड़ आया है। मृतक के भाई ने जांच अधिकारी जैतारण पुलिस उप अधीक्षक सुरेश कुमार व तत्कालीन बारूंदा थानाधिकारी व वर्तमान में पाली जिले के फालना थानाधिकारी ओमप्रकाश कासनिया के खिलाफ जांच में तथ्य बदलने के आरोप में न्यायालय के इस्तगासा के आधार पर जैतारण थाने मामला दर्ज करवाया है। मामले की जांच सोजत सीओ हेमंत जाखड़ को सौंपी गई है।

यह लगाए एफआईआर में आरोप
पुलिस के अनुसार जोधपुर ग्रामीण की सरहद स्थित बाप तहसील क्षेत्र के गांव केलनसर निवासी अनिल जाणी पुत्र भवंरसिह जाणी ने न्यायालय के जरिये जैतारण थाने में मामला दर्ज करवाया गया। इसमें आरोप लगाया कि रायपुर थाना क्षेत्र में बर चौराहे पर 28 अप्रेल 2020 को गठित जिला स्पेशल टीम के साथ पुलिसकर्मी अशोक कुमार विश्नोई पुत्र भंवरलाल बर पहुंचे। वहां स्पेशल टीम में शामिल बोरून्दा के थानाधिकारी ओमप्रकाश कासनिया उप निरीक्षक द्वारा अपनी सरकारी पिस्टल को सडक़ के बीच नियम विरुद्ध अनलोड करने के दौरान पिस्टल की मैगजीन उतरने के बाद राउण्ड पिस्टल में रह जाने व उस राउण्ड को बाहर नहीं निकाल कर लापरवाही पूर्वक ट्रीगर दबा दिया। इससे गोली सामने खड़े पुलिसकर्मी अशोक कुमार विश्नोई के सीने में जा लगी। इससे उसकी मौत हो गई थी।

आरोप लगाया कि पुलिसकर्मी का शव जोधपुर के एमडीएम अस्पताल मे रखवाया गया, लेकिन बोरून्दा के तत्कालीन थानाधिकारी ओमप्रकाश कासनिया वहां नहीं आए। मामला कासनिया के खिलाफ उस समय दर्ज किया गया था। जिसकी जांच सीओ जैतारण सुरेश कुमार को सौंपी गई। प्रार्थी ने जांच अधिकारी सुरेश कुमार पर आरोपी को लाभ पहुंचाने के लिए जांच के सही तथ्य प्रस्तुत नहीं करने का आरोप लगया है। साथ ही ओमप्रकाश पर जांच प्रभावित करने का आरोप लगाया। प्रार्थी ने और भी कई आरोप लगाते हुए नए सिरे से जांच की मांग की।