टेरर फंडिंग पर इमरान खान को करारा झटका, FATF के 'ग्रे लिस्ट' में बरकरार रहेगा PAK

|

Updated: 23 Oct 2020, 08:22 PM IST

HIGHLIGHTS

  • FATF ने पाकिस्तान ( Pakistan ) को एक बार फिर से झटका देते हुए 'ग्रे लिस्ट' में रखने का फैसला किया है।
  • FATF की ओर से दिए गए 27 एक्शन प्लान में से पाकिस्तान ने सिर्फ 21 पर ही अब तक कार्रवाई की है।

इस्लामाबाद। आर्थिक तंगी से जूझ रहे पाकिस्तान को वित्तीय कार्रवाई कार्य बल ( FATF ) से बड़ा झटका लगा है। दरअसल, पाकिस्तान FATF ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में ही बरकरार रखने का फैसला किया है।

एफएटीएफ की कार्य योजना के 27 लक्ष्यों को पूरा करने में नाकाम रहने को लेकर पाकिस्तान के खिलाफ यह कदम उठाया गया है। पाकिस्तान 27 बिन्दुओं में से 6 का अनुपालन करने में असफल रहा है।

Pakistan: FATF की कार्रवाई से पहले Imran सरकार की नई चाल! Hafiz, Azhar और Dawood की संपत्तियां होंगी जब्त

बता दें कि आतंकवाद के खिलाफ वित्तपोषण और धनशोधन यानी मनी लॉंड्रिंग को रोकने व निगरानी के लिए बनी संस्था FATF की बार्षिक बैठक पेरिस में डिजिटल माध्यम से हुई। इस बैठक में सभी 27 कार्य बिन्दुओं की समीक्षा की गई, जिसके बाद पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में बरकरार रखने का फैसला लिया गया।

2018 से ग्रे लिस्ट में पाकिस्तान

आपको बता दें कि आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई करने में नाकाम रहने के बाद एफएटीएफ ने पाकिस्तान को जून 2018 में ‘ग्रे’ सूची में डाला था। इसके बाद FATF ने पाकिस्तान से कहा था कि आतंकवादियों के धन शोधन और वित्तपोषण को रोकने के लिए तय किए गए 27 बिंदुओं की कार्य योजना को 2019 के अंत तक पूरा करें। हालांकि, इसके बाद कोरोना महामारी के कारण पाकिस्तान को अक्टूबर 2020 तक का वक्त दिया गया था।

पाकिस्तान को पिछले साल ग्रे लिस्ट में डाला गया था

एफएटीएफ का फैसला ऐसे समय में आया है, जब इमरान खान पूरी दुनिया में ये दिखाने की कोशिश कर रहे हैं कि पाकिस्तान आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई कर रहा है और किसी भी तरह के आतंकी गतिविधियों को पाकिस्तान से अंजाम नहीं दिया जा रहा है।

बदहाल पाकिस्तान पर FATF ने फिर चलाया डंडा! लगाई कुछ नई शर्तें

इमरान खान ने एफएटीएफ की ग्रे सूची से निकलने की कोशिशों के बीच पिछले अगस्त महीने में 88 प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों और उनके नेताओं पर वित्तीय पाबंदी लगाई थी, इनमें मुंबई हमले का सरगना और जमात-उद दावा प्रमुख हाफिज सईद, जैश-ए-मुहम्मद प्रमुख मसूद अजहर और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहीम भी शामिल है।

ऐसे में अब पाकिस्तान को 'ग्रे लिस्ट' ( Pakistan In Gray List ) में बरकरार रखने का फैसला इमरान खान के लिए एक बड़ा झटका है। मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि पाकिस्तान के फरवरी 2021 तक 'ग्रे लिस्ट' में बने रहने की संभावना है।