Khelo India Games: WFI ने डोपिंग में फंसे 12 पहलवानों की जारी की लिस्ट, वापस करेंगे पदक

|

Updated: 12 Sep 2020, 03:34 PM IST

HIGHLIGHTS

  • Khelo India Games: खेलो इंडिया प्रोग्राम के तहत खेलने वाले 12 पहलवान डोपिंग टेस्ट में फेल हो गए हैं। इसमें फ्रीस्टाइल के छह और ग्रीको रोमन के छह पहलवान शामिल हैं।
  • सरकार के निर्देशों पर अमल करते हुए भारतीय कुश्ती महासंघ ( WFI ) ने खेलो इंडिया गेम्स के चार सत्रों में डोप टेस्ट में नाकाम रहे 12 पहलवानों से पदक और प्रमाण पत्र लौटाने को कहा है।

नई दिल्ली। भारत सरकार ने युवाओं को खेल की तरफ आकर्षित करने के लिए खेलो इंडिया प्रोग्राम ( Khelo India Campaign ) की शुरूआत की थी। लेकिन अब इस प्रोग्राम के तहत आयोजित खेलों के दौरान दवा का सेवन करने के मामले में 12 खिलाड़ी दोषी पाए गए हैं।

दरअसल, कई बड़े खिलाड़ी डोपिंग में फंसने की वजह से अपना करियर बर्बाद कर चुके हैं और अब 12 पहलवान भी डोपिंग टेस्ट में फेल हो गए हैं। ये सभी टूर्नामेंट के दौरान लिए गए डोप टेस्ट में फेल हुए हैं। ऐसे में सरकार के निर्देशों पर अमल करते हुए भारतीय कुश्ती महासंघ ( WFI ) ने खेलो इंडिया गेम्स के चार सत्रों में डोप टेस्ट में नाकाम रहे 12 पहलवानों से पदक और प्रमाण पत्र लौटाने को कहा है। इसमें फ्रीस्टाइल के छह और ग्रीको रोमन के छह पहलवान शामिल हैं। WFI ने अपनी मान्य प्रदेश ईकाइयों को इस प्रक्रिया में मदद करने के लिए कहा है जो शुक्रवार से शुरू हुई।

आईडब्ल्ल्यूएफ ने खारिज किए संजीता चानू पर लगे डोपिंग आरोप...माफी और मुआवजा की मांग

WFI के सहायक सचिव विनोद तोमर ने एक बयान में कहा है कि सरकार ने हमसे पहलवानों से पदक और प्रशस्ति पत्र वापस लेने को कहा है। हमने पहलवानों को इसकी जानकारी दे दी है। उन्होंने आगे यह भी कहा कि ऐसे कई पहलवान है जो 2018 से अब तक खेलो इंडिया गेम्स (स्कूली, युवा और यूनिवर्सिटी खेल) में डोप टेस्ट में नाकाम रहे हैं। अब तक खेलो इंडिया के चार सत्र हो चुके हैं।

बता दें कि भारतीय खेलों को डोप मुक्त बनाने की लगातार कोशिश की जा रही है। इसको लेकर जागरुकता अभियान में चलाया जा रहा है। हालांकि जो भी खिलाड़ी डोप टेस्ट में फेल होता है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई भी की जाती है।

18 सितंबर तक लौटाने होंगे पदक

नेशनल डोपिंग ऐजेंसी ( National Doping Agency ) जिसे नाडा के नाम से भी जाना जाता है। NDA की रिपोर्ट के मुताबिक, खेलो इंडिया गेम्स के चार सत्रों के दौरान कुल 12 पहलवान डोप टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं। अब इन सभी पहलवानों को 18 सितंबर तक अपने मेडल और प्रशस्ति पत्र लौटाने होंगे।

डोपिंग के चक्कर में फंसे पृथ्वी शॉ कुछ इस तरह से करते हैं कमाई, छोटी सी उम्र में इतनी कमाई दौलत

राज्य कुश्ती संघों से भी कहा गया है कि वे पहलवानों के पदक लौटाने में WFI की मदद करें। फिलहाल ये सभी खिलाड़ी डोप मुक्त हैं, लेकिन इसके बावजूद उन्हें अपने पदक लौटाने होंगे क्योंकि यह सभी मामले खेलो इंडिया गेम्स के पिछले चार सत्रों के हैं।

ये हैं 12 पहलवान

आपको बता दें कि जिन 12 पहलवानों का नाम डोपिंग मामले में सामने आया है उनमें से फ्रीस्टाइल के छह और ग्रीको रोमन के छह पहलवान शामिल हैं। रोहित दहिया (54 किलो), मनोज (55 किलो), कपिल पी (92 किलो), अभिमन्यु (58 किलो), विकास कुमार (65 किलो), विशाल (97 किलो), जगदीश रोकड़े (42 किलो) , रोहित अहिरे (72 किलो) , विराज रनवाडे (77 किलो), विवेक भरत (86 किलो), जसदीप सिंह (125 किलो) और राहुल कुमार (63 किलो)।