कोरोना के कारण एक और भारतीय दिग्गज खिलाड़ी वी.चंद्रशेखर का निधन, खेल जगत में शोक की लहर

|

Updated: 13 May 2021, 11:23 AM IST

चेन्‍नई के एसडीएटी मेडिमिक्‍स टेबल टेनिस एकेडमी के डायरेक्‍टर और मुख्‍य कोच चंद्रशेखर को पिछले सप्‍ताह चेन्नई के सिटी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। बताया जा रहा है कि कोरोना की वजह से उनके फेफड़ों में संक्रमण हो गया था।

कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचाई हुई है। भारत में भी कोरोना वायरस ने कहर बरपाया हुआ है। बड़े—बड़े दिग्गजों की कोरोना वायरस से मौत हो गई। खेल जगत की कई बड़ी हस्तियां भी इस जानलेवा वायरस की वजह से काल का ग्रास बन गई। भारत ने इस महामारी के कारण कई सितारों को खो दिया है। अब कोरोना ने टेबल टेनिस के एक लिजेंड की जान ले ली। रिपोर्ट के अनुसार, तीन बार के नेशनल टेबल टेनिस चैंपियन और पूर्व इंटरनेशनल खिलाड़ी वेनुगोपाल चंद्रशेखर का कोरोना वायरस की वजह से चेन्नई में निधन हो गया। बता दें कि वेनुगोपाल चंद्रशेखर तमीजगा टेबल टेनिस एसोसिएशन के अध्‍यक्ष भी थे।

फेफडों में हो गया था संक्रमण
रिपोर्ट के अनुसार, चेन्‍नई के एसडीएटी मेडिमिक्‍स टेबल टेनिस एकेडमी के डायरेक्‍टर और मुख्‍य कोच चंद्रशेखर को पिछले सप्‍ताह चेन्नई के सिटी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था। बताया जा रहा है कि कोरोना की वजह से उनके फेफड़ों में संक्रमण हो गया था। ईलाज के दौरान बुधवार को उनका निधन हो गया। बता दें कि बतौर कोच चंद्रशेखर ने भारत को एस रमन, अरुल सेल्‍वी, चेतन बाबूर, एनआर इंदु और जी साथियान जैसे कई शानदार खिलाड़ी दिए।

यह भी पढ़ें— मालदीव के खेल मंत्री ने लगाया बेंगलुरु एफसी टीम पर कोरोना उल्लंघन का आरोप

1982 में मिला था अर्जुन पुरस्कार
बता दें कि वी.चंद्रशेखर टेबल टेनिस के दिग्गज खिलाड़ी रहे थे। टेबल टेनिस में उनकी उपलब्धियों की वजह से चंद्रशेखर को वर्ष 1982 में अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। इसके अलावा उन्होंने एशियन गेम्स में कांस्य पदक जीता था। कॉमनवेल्‍थ गेम्‍स में चंद्रशेखर सेमीफाइनलिस्‍ट भी रहे थे। चंद्रशेखर बीए इकोनॉमिक्‍स एंड लॉ के गोल्‍ड मेडलिस्‍ट थे।

यह भी पढ़ें— हॉकी जगत में शोक की लहर, ओलंपिक स्वर्ण विजेता रविंदर पाल सिंह का कोरोना से निधन

इस वजह से हो गया था कॅरियर बर्बाद
बता दें कि वर्ष 1984 में चंद्रशेखर के घुटने का ऑपरेशन हुआ था। यह ऑपरेशन असफल रहा था। इसकी वजह से उनका कॅरियर बर्बाद हो गया था। ऑपरेशन के बाद से उनका चलना फिरना बंद हो गया था। हालांकि उन्होंने हार नहीं मानी और वे ठीक होकर कोच बने। उन्होंने बतौर कोच जिन खिलाड़ियों को कोचिंग दी, उनमें वर्तमान भारतीय खिलाड़ी जी साथियान भी शामिल हैं।