रक्षा बंधन: बंदियों को जेल स्टाफ ने ताे कोविड हॉस्पिटल में नर्स ने बांधी मरीजों को राखी

|

Updated: 03 Aug 2020, 10:05 PM IST

  • कोविड-19 महामारी के कारण परिजनों की मुलाकात पर थी पाबंदी
  • बहनों के संदेश को रिकार्ड कर भाइयों को सुनाया गया

ग्रेटर नोएडा (noida ) कोविड-19 महामारी के कारण जेल में बंदियों से परिजनों की मुलाकात पर प्रतिबंध है। इसलिए रक्षा बंधन पर बहनों की राखियां सेनिटाइज करके उन्हे उपलब्ध कराई गई। जेल प्रशासन ने बहनों के संदेश को रिकार्ड कर बंदियों को सुनाया। इसी तरह से कोविड अस्पतालों में भर्ती कोरोना संक्रमित मरीजों को महिला डॉक्टर और स्टाफ नर्स ने राखी बांधी। इस दाैरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए उनकी बहनाें से बात भी कराई गई।

यह भी पढ़ें: राखी बांधकर लाैट रहे परिवार की कार ईस्टर्न पेरिफेरल पर ट्रक से टकराई, मां-बेटी की माैत, तीन घायल

( Raksha Bandhan) नाेएडा जेल सुपरिंटेंडेंट विपिन कुमार मिश्र ने बताया कि कोरोना महामारी के कारण जेल में बंदियों से परिजनों के मुलाकात पर पाबंदी लगाई गई है। रक्षाबंधन के पर्व के लिए पुलिस महानिदेशक और महानिरीक्षक कारागार ने बहनों की ओर से आई राखियों को बंदियों तक पहुंचाने की व्यवस्था करने के निर्देश दिए थे। एक अगस्त की शाम तक जेल प्रशासन को मिली सभी रक्षासूत्र बंदियों को उपलब्ध कराए गए। शासन के निर्देश के तहत राखियों को सेनिटाइज करने के बाद दिया गया। बंदियों ने एक-दूसरे को राखी बांधकर पर्व की खुशियां मनाई। जेल अधीक्षक ने बताया कि परिजनों और बहनों की ओर से आए संदेश को भी रिकार्ड कर बंदियों को सुनाया गया। जेल प्रशासन ने भी सभी बंदियों को पर्व की बधाई दी।

यह भी पढ़ें: सावन के आखिरी सोमवार को घरों में मिट्टी के शिव बनाकर की पूजा

दूसरी ओर नोएडा के मरीजों अस्पताल में रक्षाबंघन करा राखी का पर्व सादगी से मनाया गया । प्रशासन ने बहनों की ओर से भेजी गयी राखियों को संक्रमितों तक पहुंचाया, अस्पताल की डॉक्टर्स ओर नर्सो ने अस्पताल में भर्ती मरीजों की कलाई पर राखी बांधी और वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए बात भी कराई। शारदा अस्पताल के प्रवक्ता डॉक्टर अजीत कुमार ने बताया कि रक्षा बंधन पर राखी संक्रमितों तक पहुंचाने का इंतजाम किया गया था। इसके लिए एक टेलीफ़ोन नंबर भी जारी किया गया था। जिस बहन ने राखी भेजी तो उसे मरीज तक पहुंचा गया संक्रमित के चाहने पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिये बहन से बात भी कराई गई। कैलाश आयुर्वेदिक एवं नैचुरोपैथी स्थित कोविड़ अस्पताल और जिम्स के कोविड अस्पताल में बहनों की भेजी राखी को डॉक्टर्स ओर नर्सो ने अस्पताल में भर्ती मरीजों की कलाई पर बांधा।