flash back 2020 - कश्मीरी केसर को मिला जीआई टैग, जालंधर से दिखा हिमालय

|

Updated: 28 Dec 2020, 04:52 PM IST

2020 और पिछला एक दशक कृषि क्षेत्र में बड़े बदलाव वाला रहा। कई योजनाएं लागू हुई, तो पर्यावरण की चिंता बनी हुई है, लॉकडाउन में कुछ सुधार नजर आया।

2020 और पिछला एक दशक कृषि क्षेत्र में बड़े बदलाव वाला रहा। कई योजनाएं लागू हुई, तो पर्यावरण की चिंता बनी हुई है, लॉकडाउन में कुछ सुधार नजर आया।

तारीख - 01 . 01 . 2020 -
ऑस्ट्रेलिया के जंगल धधके -
पिछले वर्ष अमेजन की आग के बाद इस वर्ष ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में भीषण आग से करोड़ों वन्यजीव मारे गए।

तारीख - 09 . 01 . 2020 -
कृषक नवोन्मेष कोष की घोषणा -
भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद ने कृषि नवाचारों को बढ़ावा देने और खेती को तकनीकों से जोडऩे के लिए 'कृषक नवोन्मेष कोष' स्थापना की घोषणा की।

तारीख - 04 . 04 . 2020 -
जालंधर से दिखा हिमालय -
वायु प्रदूषण से दिल्ली समेत कई शहरों की सेहत फिर खराब हुई, पर लॉकडाउन में वातावरण इतना स्वच्छ हुआ कि जालंधर से २३० किमी दूर हिमालय की धौलाधार रेंज साफ नजर आई।

तारीख - 17 . 04 . 2020 -
किसान रथ ऐप लॉन्च -
केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने लॉकडाउन में किसानों को फसल और सब्जी बेचने की सुविधा देते हुए किसान-रथ मोबाइल ऐप लॉन्च किया।

तारीख - 25 . 07 . 2020 -
कश्मीरी केसर को जीआइ टैग -
केंद्र ने कश्मीर में उगाई जाने वाली केसर के लिए भौगोलिक संकेत (जीआइ) प्रमाणन जारी किया। गुणवत्ता के लिए विख्यात कश्मीरी केसर दुनिया की एकमात्र केसर है, जो 1,600 मीटर की ऊंचाई पर उगाई जातीहै।