Latest News in Hindi

दिल्ली: रहम की भीख मांगती रही पत्नी, शख्स ने चाकू से गोदकर बेरहमी से कर दी हत्या

By Anil Kumar

Sep, 11 2018 04:12:14 (IST)

एक शख्स ने अपनी ही पत्नी को चाकू से गोदकर बेरहमी से हत्या कर दी। इस दौरान उसकी पत्नी उससे रहम की भीख मांगती रही लेकिन आरोपी पति का दिल नहीं पसीजा।

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली से दिल दहलाने वाली एक घटना सामने आई है। दरअसल एक शख्स ने अपनी ही पत्नी को चाकू से गोदकर बेरहमी से हत्या कर दी। इस दौरान उसकी पत्नी उससे रहम की भीख मांगती रही लेकिन आरोपी पति का दिल नहीं पसीजा। उसके बच्चों ने पिता को रोकने की बहुत कोशिश कि लेकिन आरोपी पिता के सिर पर तो जैसे पत्नी को मौत के घाट उतारने का शैतान सवार हो चुका था। आरोपी पति ने चाकू से कई बार अपनी पत्नी पर वार किया और उसकी हत्या कर दी।

बच्चों के सामने ही कर दी हत्या

आपको बता दें कि यह सनसनीखेज मामला राजधानी दिल्ली के सागरपुर इलाके में घटी है। बताया जा रहा है कि सागरपुर के दयाल पार्क में आरोपी राजेश अपनी पत्नी पूनम और तीन बच्चों के साथ रहता है। बीती रात राजेश ने अपनी पत्नी पूनम की चाकू से गोदकर हत्या कर दी। राजेश ने पूनम पर एक के बाद एक कई बार चाकू से शरीर के अलग-अलग हिस्सों पर वार किए जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई और फिर बाद में उसकी मौत हो गई। इस बीच पूनम दया की भीख मांगती रही, चिल्लाती रही लेकिन राजेश का दिल नहीं पसीजा। सबसे हैरानी की बात यह है कि जिस वक्त यह सब हो रहा था उस दौरान राजेश के तीनों बच्चे मौके पर मौजूद थे और पिता से मां को छोड़ देने की गुहार लगात रहे थे। पर राजेश को बच्चों पर भी जरा सा भी तरस नहीं आया और पूनम को मौत के घाट उतार दिया।

मेट्रीमोनियल वेबसाइट पर युवती से धोखाधड़ी,देहज लेकर फरार हुआ लड़का

जांच में जुटी पुलिस

आपको बता दें कि इस मामले की भनक पुलिस को लगते ही फौरन ही घटना स्थल पर पहुंची और फिर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। अब पुलिस बच्चों से बातचीत कर सच का पता लगा रही है। जिससे यह साफ हो सके कि आरोपी राजेश ने अपनी पत्नी की बेरहमी से हत्या क्यों की? पुलिस को अभी तक पता नहीं चल सका है कि हत्या के पीछे असल कारण क्या हैं? हालांकि पुलिस ने आरोपी राजेश को गिरफ्तार कर लिया है और उनसे भी पूछताछ कर रही है। इधर मां के गुजर जाने के बाद नाबालिक बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है। पिता सलाखों के पीछे जा चुका है। ऐसे में अब सवाल यही है कि आखिर इन बच्चों के भविष्य का क्या होगा?