सोशल मीडिया पर अशोक अरोरा के माफी मांगने की खबर निकली झूठी

|

Updated: 14 Jul 2021, 06:39 AM IST

— करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष जीवनसिंह शेरपुर ने किया खंडन

patrika

नीमच। मध्यप्रदेश में राजस्थान से अलग पॉलिसी होने के कारण मध्यप्रदेश में शराब के भाव महंगे है, राजस्थान में सस्ती शराब होने के कारण एमपी में तस्करी होती है। पूर्व में पुलिस ने कई तस्करों को राजस्थान से लाई गई शराब की बडी खेप के साथ जिले में पकडा है। इसको लेकर आबकारी विभाग एवं शराब ठेकेदार के लोग सतर्क रहते है। राजस्थान से बडी शराब की खेप की सूचना शराब कंपनी को बीते दिनों मिली थी। जिस पर एक कार को रोककर तलाशी के दौरान कुछ शराब की खुली बोतल नयागांव बार्डर पर चैकिंग के दौरान मिली थी पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी। मुखबिर की गलत सूचना पाई गई और कार में ऐसी कोई भारी मात्रा में शराब नहीं मिली थी।

प्राप्त जानकारी लगते ही नीमच के शराब ठेकेदार अरोरा गंगानगर भी मौके पर पहुंच गए थे और चिर—परिचित अंदाज में सभी से मिले, लेकिन कुछ लोगों ने मामले को हवा दे दी और भ्रामक प्रचार किया कि शराब ठेकेदार अशोक अरोरा गंगानगर ने करणीसेना के प्रदेश अध्यक्ष जीवनसिंह शेरपुर से माफी मांगी है,जबकि वीडियो में ऐसा कुछ भी नहीं है। वीडियो की सच्चाई करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष जीवनसिंह शेरपुर ने स्वयं चर्चा के दौरान कही। मध्यप्रदेश करणी सेना के प्रदेश अध्यक्ष जीवनसिंह शेरपुर ने इस तरह की खबरों का खंडन किया है। सोशल मीडिया पर इस तरह का भ्रामक खबर हटाने के लिए भी उन्होंने संबंधितों को कहा है।

पत्रिका से प्रदेश अध्यक्ष शेरपुर की बातचीत—
पत्रिका- नमस्कार भाई साहब नीमच में शराब को लेकर क्या बातचीत हो गई थी।
जीवन शेरपुर- कोई खास नहीं है, धार से कुछ करनी सैनिक सांवलिया सेठ दर्शन कर लौट रहे थे। निंबाहेड़ा से शराब खरीदने पर नीमच में उन्हें राजस्थान की शराब होने के चलते पकड़ लिया था। लेकिन मामला सुलट गया। मेरी अशोक भाई से बातचीत हो गई थी। वह मेरे परिचित है। उन्होंने स्वयं कर्मचारी को फटकार लगाई हैं।
पत्रिका- अशोक भाई द्वारा आपसे माफी मांगने का सोशल साइटस पर खबर चल रही है।
जीवन शेरपुर- ऐसा कुछ नहीं है, वह मेरे परिचित है। मेरी उनसे बातचीत हुई थी। मैने सैनिक को छोडऩे के लिए कहा था, उन्होंने छोड़ दिया।