अफीम फैक्ट्री के महाप्रबंधक  शशांक यादव को कोटा एसीबी ने करीब 16.३२ लाख की नकदी के साथ पकड़ा

|

Published: 17 Jul 2021, 07:30 PM IST

अफीम फैक्ट्री के महाप्रबंधक शशांक यादव को कोटा एसीबी ने करीब 16.३२ लाख की नकदी के साथ पकड़ा

patrika

नीमच। भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) कोटा की टीम ने अफीम महाप्रबंधक, गा?ीपुर (उत्तर प्रदेश) शशांक यादव (ढ्ढक्रस्) की गाड़ी से 16 लाख 32 हजार 410 रुपए की मोटी रकम बरामद की है। शशांक पर नीमच (मध्य प्रदेश) फैक्ट्री का अतिरिक्त चार्ज है। यह कार्रवाई शनिवार को हैगिंग ब्रिज टोल नाके के पास चेकिंग के दौरान हुई। इतनी बड़ी राशि को लेकर संतोषजनक जवाब नहीं देने पर एसीबी ने शशांक यादव को पकड़ा है। यह रकम अफीम किसानों से पट्टे जारी करने व अफीम की क्वालिटी अच्छी बताने के एवज में रिश्वत के रूप में वसूली गई थी।

कोटा में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एसीबी) ठाकुर चन्द्रशील ने बताया कि शशांक यादव के खिलाफ शिकायत मिली थी। इसमें बताया गया था कि अफीम फैक्ट्री नीमच में लाइसेंसी काश्तकारों की अफीम भेजी जाती है। इससे पहले यहां अफीम सैम्पलों की जांच का काम चल रहा है। अफीम में गाढ़ता व मॉर्फिन प्रतिशत के हिसाब से ही नारकोटिक्स विभाग काश्तकारों को पट्टे जारी करता है।

60 से 80 हजार रुपए प्रति किसान
एसीबी के एएसपी चंद्रशील के मुताबिक, शशांक यादव के द्वारा अफीम फैक्ट्री नीमच से राजस्थान के लाइसेंसी काश्तकारों की अफीम जमा की जाती है। वर्तमान में फैक्ट्री को अफीम देने वाले मध्य प्रदेश व राजस्थान के काश्तकारों के सैंपल की जांच हो रही है। सेंटरों पर जांच के बाद प्रतिशत के हिसाब से काश्तकारों को भुगतान किया जाता है। शशांक यादव के पास नीमच अफीम फैक्ट्री का अतिरिक्त चार्ज है। आरोप है कि शशांक और नीमच में कार्यरत अन्य कर्मचारी अजीत सिंह, दीपक यादव और दलालों के माध्यम से 60 से 80 हजार रुपए प्रति किसान वसूले जा रहे हैं। रकम के एवज में अफीम की बढय़िा गाढ़ता व मारफीन प्रतिशत ज्यादा बताकर 10 आरी, 12 आरी का पट्टा दिलवाया जाता है। चित्तौडग़ढ़, प्रतापगढ़, कोटा, झालावाड़ के किसानों के साथ ऐसा किया जा रहा है। रकम नहीं देने पर अफीम को घटिया करार दिया जाता है।

30 से 36 करोड़ एडवांस वसूले
एएसपी के मुताबिक अफीम लैब के अजीत सिंह व कोडिंग टीम के दीपक कुमार यादव ने दलालों के जरिए 6 हजार से ज्यादा किसानों से 10/12 आरी के पट्टे दिलवाने के नाम पर 30 से 36 करोड़ रुपए एडवांस वसूल कर लिए हैं। अभी भी 40 हजार से अधिक किसानों की अफीम की जांच होनी बाकी है। एसीबी को सूचना मिली थी कि शशांक यादव नीमच आया है। अवैध रूप से वसूल किए गए लगभग 15 लाख रुपए लेकर पुलिस का लोगो लगी हुई स्कॉर्पियो गाड़ी से चित्तौडग़ढ़-कोटा होता हुआ गाजीपुर (उत्तर प्रदेश) जाएगा। इसके बाद एसीबी की टीम ने कोटा-उदयपुर हाइवे पर हैंगिंग ब्रिज टोल नाके पर आकस्मिक चेकिंग की। पुलिस का लोगो लगी हुई स्कॉर्पियो गाड़ी में शशांक यादव आया।