जिस दिन की लव मैरिज उसी शाम को हो गया था लापता, 5 दिन बाद जंगल में मिली लाश

|

Published: 14 Jul 2021, 09:55 PM IST

पत्नी-बेटी को छोड़कर थामा था दूसरी महिला का हाथ...9 जुलाई को की थी लव मैरिज और उसी रात पार्टी करने की बात कहकर घर से निकला था...

नीमच. नीमच में टामोटी की घाटी पर एक युवक की लाश क्षत विक्षत हालत में मिली है। मृतक की शिनाख्त महेन्द्र सिंह सौंधिया उम्र 25 साल के तौर पर हुई है। महेन्द्र 9 जुलाई से लापता था और उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट भी पुलिस में दर्ज कराई गई थी। बताया जा रहा है कि शादीशुदा होने के बावजूद महेन्द्र ने 9 जुलाई को ही एक महिला से लव मैरिज की थी और नई दुल्हन को घर लाने के बाद घर से पार्टी करने की बात कहकर निकला था और फिर वापस घर नहीं पहुंचा।

 

ये भी पढ़ें- भ्रष्ट अधिकारी की काली कमाई, घर में मिली 1 किलो सोने की ईंट और 80 लाख कैश

 

दिन में लव मैरिज की, शाम को हो गया था लापता
मनासा थाना प्रभारी कन्हैयालाल डांगी ने बताया कि 9 जुलाई को मनासा थाने पर गुमशुदगी दर्ज हुई थी। बुधवार को सूचना मिली कि टामोटी की घाटी के यहां किसी व्यक्ति की लाश पड़ी है। मौके पर जाकर देखा तो शिनाख्त महेंद्रसिंह सौंधिया (२५) पिता लालसिंह सौंधिया निवासी सिरखेड़ा के रूप में हुई। बकौल डांगी मृतक शादीशुदा है, लेकिन अपने गांव के समीप गुलाबखेड़ी की रहने वाली 22 वर्षीय विवाहिता युवती से 9 जुलाई को उसने प्रेम विवाह किया था। इसके बाद पार्टी मनाने की कहकर गया था। उसी दिन से वह घर नहीं पहुंचा था। शिकायत परिजनों ने मनासा थाने पर की थी। आज महेंद्र का शव कुकड़ेश्वर थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले टामेटी के घाटे पर मिला है। फिलहाल पुलिस अनुसंधान जारी है।

 

ये भी पढ़ें- हाथ में कुल्हाड़ी लेकर 2 घंटे तक गांव में घूमता रहा कातिल, घरों में कैद रहे लोग

 

पांच दिन बाद मिली क्षत विक्षत लाश
मृतक महेन्द्र सिरखेड़ा का रहने वाला था और अब उसकी मौत को लेकर तरह तरह के सवाल उठ रहे हैं। फिलहाल पुलिस मामले की तफ्तीश में जुटी हुई है। पांच दिन बाद शव मिलने से खराब हो चुका है और पोस्टमार्टम के बाद ही मौत के कारणों का पता चल सकता है। पुलिस प्रेम प्रसंग के चलते मामले को संदिग्ध मान रही है और हर एंगल से मामले की जांच में जुट गई है। एक संदेही को भी हिरासत में लिया गया है जिससे पूछताछ की जा रही है। जल्द ही मामले का खुलासा होने की उम्मीद भी जताई जा रही है।

देखें वीडियो- 50 साल बाद मिला न्याय, करोड़पति बना आदिवासी मजदूर