आदिवासी की मौत के बाद एक्शन में सरकार, घसीट कर मारने वाले आरोपियों के मकानों पर चली जेसीबी

|

Published: 29 Aug 2021, 07:21 PM IST

आदिवासी युवक को चोरी के शक में बेरहमी से पीटने के बाद गाड़ी से बांधकर घसीटा था..जिससे युवक की मौत हो गई थी..

नीमच. नीमच के सिंगोली थाना क्षेत्र के अथवाकलां गांव में एक युवक को चोर समझकर बेरहमी से मारपीट करते हुए और पिकअप वाहन से रस्सी से बांधकर घसीटने का वीडियो वायरल होने के बाद रविवार को सरकार एक्शन में नजर आई। रविवार को घटना में शामिल तीन आरोपियों पर बड़ी कार्रवाई करते हुए प्रशासन ने उनके अवैध मकानों को जमींदोज कर दिया। बता दें कि नीमच में शनिवार को हैवानित का एक वीडियो सामने आया था जिसमें कुछ लोग चोरी के शक में आदिवासी युवक कन्हैया भील की न केवल बेरहमी से पिटाई करते बल्कि उसे पिकअप गाड़ी से बांधकर सड़क पर घसीटते हुए भी नजर आ रहे थे। इस घटना में आदिवासी कन्हैया की मौत हो गई थी।

एक्शन में सरकार, आरोपियों के मकान जमींदोज
दिल दहला देने वाली घटना का वीडियो वायरल होने के बाद प्रदेश ही नहीं बल्कि पूरे देश से घटना को लेकर प्रतिक्रियाएं सामने आ रही थीं और प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर सवाल उठाए जा रहे थे। वहीं वीडियो वायरल होने के दूसरे दिन प्रशासन पूरी तरह से एक्शन अवतार में नजर आया और प्रशासन ने घटना में शामिल तीन आरोपियों के मकानों को जमींदोज कर दिया। जिन मकानों को तोड़ा गया है उनमें सरपंच पति महेंद्र गुर्जर का जेतलिया गांव में बना मकान, पाटन में अमर चंद तथा सत्यनारायण व गोपाल गुर्जर अवैध मकानों को तोड़ा गया है। प्रशासन ने स्पष्ट कर दिया कि विकृत मानसिकता वाले सभी आरोपियों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी। वहीं मृतक कन्हैयालाल के परिजन को 4 लाख रुपए सहायता राशि भी सरकार की तरफ से स्वीकृत की गई है।

ये भी पढ़ें- आदिवासी युवक को लोड़िंग ट्रक से 100 मीटर तक घसीटा, मौत

मामले में 5 आरोपी गिरफ्तार
एसपी सूरज वर्मा ने सिंगोली में हुई इस घटना को बेहद दुखद बताते हुए कहा कि मामले में 8 आरोपियों को चिन्हित किया गया था। जिनमें से पांच को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपियों की अवैध संपत्ति को भी तोड़ा गया है। एसपी ने आगे कहा कि पुलिस मुख्यालय व प्रदेश सरकार के निर्देश है कि इस तरह की विकृत मानसिकता के लोगों के साथ किसी भी तरह की कोई नरमी न बरती जाए। इस पूरे मामले में जल्दी जांच करके मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाया जाएगा ताकि आरोपियों को जल्द से जल्द सजा मिल सके।

देखें वीडियो- एमपी की धक्कामार ट्रेन