10 माह में 100 करोड़ कोरोना वैक्सीनेशन से कुछ ही दूर भारत, बड़े जश्न की तैयारी

|

Updated: 13 Oct 2021, 10:45 PM IST

केवल 10 महीने के भीतर भारत में जारी दुनिया का सबसे बड़ा कोरोना टीकाकरण अभियान 100 करोड़ के आंकड़े को छूने जा रहा है, जो एक रिकॉर्ड उपलब्धि है। सूत्रों की मानें तो भारत सरकार इस मौके पर जश्न की तैयारी में जुटी है।

 

नई दिल्ली। बीते 16 जनवरी को देश में शुरू हुए कोरोना टीकाकरण अभियान के 10 माह में ही भारत बड़ी उपलब्धि हासिल करने जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय देश भर में विभिन्न आयोजनों के साथ 100 करोड़ यानी एक अरब वैक्सीन खुराक देने का जश्न मनाने की तैयारी कर रहा है।

स्वास्थ्य मंत्रालय को उम्मीद है कि भारत अगले सप्ताह सोमवार या मंगलवार तक इस मील के पत्थर तक पहुंचने में सक्षम हो जाएगा। सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत के वैक्सीन अभियान में उनके अपार योगदान के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को धन्यवाद देने के लिए राष्ट्र को संबोधित भी कर सकते हैं।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय पूरे भारत में तमाम कार्यक्रमों के आयोजन के साथ इस महत्वपूर्ण दिन को मनाने की योजना बना रहा है। इसमें कोविड-19 योद्धाओं और जमीनी स्तर के स्वास्थ्य कर्मचारियों को शामिल करने की योजना है, जो टीकाकरण अभियान की कुंजी हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने भी मंत्रालय के अधिकारियों से 100 करोड़ खुराक के जश्न के दौरान कोविड-19 योद्धाओं को सम्मानित करने के बारे में विचार मांगे हैं। इनमें ड्यूटी के दौरान अपनी जान गंवाने वाले भी शामिल हैं।

कोविड के खिलाफ लड़ाई में अथक प्रयास करने में जुटे स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और पेशेवरों और आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को प्रेरित करने के लिए एक विशेष सम्मान की भी घोषणा की जाएगी।

वहीं, भाजपा भी देश भर में विभिन्न गतिविधियों को आयोजित करने की भी योजना बना रही है। इसमें डॉक्टरों और पेशेवरों के लिए धन्यवाद अभियान शामिल हो सकता है।

10 अक्टूबर को मंडाविया ने रविवार को देश के 95 करोड़ के मील के पत्थर को पार करने के बाद भारत के वैक्सीन अभियान की सराहना की थी। उन्होंने कहा था कि देश "100 करोड़ वैक्सीन खुराक देने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ रहा है"।

CoWin डैशबोर्ड के अनुसार, देश में अभी तक 96 करोड़ 74 लाख 52 हजार 484 कोरोना वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। बुधवार शाम सात बजे तक 32 लाख वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि इस बीच राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अब तक 97.79 करोड़ से अधिक COVID-19 वैक्सीन खुराक प्रदान की जा चुकी हैं। इसमें कहा गया है कि 8.43 करोड़ से अधिक शेष और अप्रयुक्त वैक्सीन खुराक अभी भी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के पास उपलब्ध हैं।

मंत्रालय ने कहा कि अधिक टीकों की उपलब्धता, राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए वैक्सीन उपलब्धता की अग्रिम दृश्यता और वैक्सीन आपूर्ति श्रृंखला को सुव्यवस्थित करने के लिए टीकाकरण अभियान को तेज किया गया है।

मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार (मुफ्त चैनल) और प्रत्यक्ष राज्य खरीद श्रेणी के माध्यम से अब तक राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों को 97.79 करोड़ से अधिक वैक्सीन खुराक प्रदान की जा चुकी हैं।

स्वास्थ्य कर्मियों (एचसीडब्ल्यू) को पहले चरण में टीका लगाने के साथ देशव्यापी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू किया गया था। फ्रंटलाइन वर्कर्स (FLWs) का टीकाकरण 2 फरवरी से शुरू हुआ था।

फिर COVID-19 टीकाकरण का अगला चरण 1 मार्च से 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और 45 वर्ष और उससे अधिक आयु के ऐसे लोगों के लिए शुरू हुआ, जिन्हें पहले से कोई बीमारी थी। देश ने 1 अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों के लिए टीकाकरण शुरू किया।

इसके बाद सरकार ने 1 मई से 18 से ऊपर के सभी लोगों को टीकाकरण की अनुमति देकर अपने टीकाकरण अभियान का विस्तार करने का फैसला किया। इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को अब तक 95.96 करोड़ से अधिक कोविड वैक्सीन की खुराक प्रदान की जा चुकी हैं।