पंद्रह बीघा में कर रखा था कब्जा, प्रशासन ने हटाया

|

Updated: 03 Dec 2020, 11:33 PM IST

लम्बे समय से काबिज थे अतिक्रमी, बना रखे थे मकान

नागौर. शहर के गुड़ला चौराहे पर करीब पंद्रह बीघा भूमि पर किए गए अतिक्रमण को ध्वस्त कर दिया गया। अतिक्रमी अर्से से यहां काबिज थे और मकान तक बना रखे थे। भूमि को कब्जाने के लिए तारबंदी कर रखी थी।
उपखंड अधिकारी अमितकुमार चौधरी ने बताया कि गुड़ला चौराहे पर राजस्व भूमि पर अवैध कब्जे की सूचना पर कार्रवाई की गई। यहां कच्चे-पक्के मकान व निर्माण कार्य भी हो रखा था। भूमि के चहुंओर तारबंदी की गई थी, ताकि पूरी भूमि कब्जे में रह सके। सूचना मिलने पर टीम गठित कर कार्रवाई की गई। उपखंड अधिकारी के नेतृत्व में तहसीलदार सुभाष कुमार, आरआई कैलाशराम, पटवारी निर्मला भाटी समेत अधिकारी मौके पर पहुंचे। कार्रवाई में नगर परिषद की लोडर मशीन व डम्पर आदि भी मंगवाए गए, ताकि सामान कब्जे में ले सके।

करीब चार घंटे तक चली कार्रवाई
अतिक्रमियों ने इस जगह रहवासी ढाणी बना रखी थी। रहने के लिए कमरे भी बनाए थे। ऐसे में पूरा अतिक्रमण ध्वस्त करने में टीम को लगभग चार घंटे लग गए। अधिकारियों के नेतृत्व में नगर परिषद के कार्मिक व राजस्व विभाग की टीम लगातार कार्रवाई में डटी रही।

डीजे संचालन की अनुमति दिलाने की मांग
नागौर. डीजे संचालन पर रोक लगाने से डीजे संचालकों की रोजी-रोटी पर संकट आ गया है। इस सम्बंध में संचालकों ने गुरुवार को जिला कलक्टर से रोक हटवाने की मांग की।
ज्ञापन में बताया कि वे शर्तों के तहत डीजे का संचालन कर सकते हैं, लेकिन इसे पूरी तरह से बंद करना उनकी रोजी-रोटी छिन रहा है। डीजे वाहन को तैयार करवाने में लाखों रुपए की लागत आती है। लॉक डाउन के दौरान उनका धंध पूरी तरह बंद था। अब सावों की सीजन में कुछ राहत मिली, लेकिन संचालन बंद करवा दिया गया। इससे वाहन की किस्तेें भी नहीं चुका पाएंगे। ज्ञापन में बताया कि रात को निर्धारित अवधि के बाद डीजे का संचालन बंद रखा जाएगा। साथ ही सड़क पर एवं सरकारी कार्यालयों के आसपास डीजे संचालन पर भी रोक लगा सकते हैं।