कोविड-19 काल में औषधीय पौधे लोगों को रखेंगे स्वस्थ

|

Published: 01 Aug 2021, 09:12 PM IST

Nagaur. घर घर औषधि योजना का हुआ प्रारंभ
अमृता देवी उद्यान में हुआ पौधरोपण
-जिले में 23 लाख पौधों का किया जाएगा वितरण

नागौर. सरकार की बजट घोषणा के अनुरूप घर-घर औषधी योजना का शुभारंभ जिला मुख्यालय में अमृतादेवी उद्यान में हुआ। कलक्टर जितेन्द्र सोनी ने कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस मौेके पर कलक्टर सोनी ने कहा कि चार औषधीय पौधे तुलसी , गिलोय , अश्वगंधा व कालमेघ का आयुर्वेद में बहुत महत्व है। यह भी बताया कि जिले में करीब 23 लाख पौधों का घरों में वितरण किए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इस दौरान पौधरोपण भी किया गया। यह पौधे कोरोना की इस विषम परिस्थिति में इम्यूनिटी पावर को बढ़ाएंगे । इस माह प्रथम चरण तथा अक्टूबर में द्वितीय चरण में वितरण होगा । इस योजना में नगर निकायों के आधे वार्ड तथा आधी ग्राम पंचायत शामिल होगी । वन विभाग द्वारा इस संबंध में विस्तृत कार्य योजना बनाई गई है जिसमें रूट चार्ट व पौधों की संख्या भी शामिल है । इसमें शहरी क्षेत्र के लोगों में जिनके पास भूमि कम है, वह गमलों में ही इन पौधों को लगाएं । जनप्रतिनिधियों से शहर का सौंदर्यीकरण व पर्यावरण के क्षेत्र में और अधिक सक्रियता से कार्य करने का आह्वान किया । उन्होंने कहा कि बरसात के इस मौसम में जाति , मजहब व दलगत से ऊपर उठकर नागरिकों को इस बात के लिए तैयार करें कि वह मार्गो तथा भवनों के मध्य के खाली जगह में युक्तिसंगत तरीके से पौधे लगाए। जिला कलक्टर ने जनप्रतिनिधियों से गोगेलाव कन्वर्शन क्षेत्र में निवास बनाने वाले जंगली पशुओं की रक्षा के लिए कार्य करने का आह्वान किया । उन्होंने स्काउट व गाइड टीम को भी इस संबंध में सहयोग करने का आग्रह किया । जिला कलक्टर ने गोगेलाव रोड पर स्थित तारबंदी वन क्षेत्र में उगे बबूल के पेड़ों के स्थान पर अन्य पौधे रिप्लेस करने का भी निर्देश दिया।
पार्क का करें विस्तार , सौंदर्यकरण पर दें जोर
जिला कलक्टर ने अमृता देवी उद्यान के विस्तार पर बल दिया । उन्होंने नगर परिषद व राजस्व कार्मिकों से पार्क में आने वाले रास्तों के और विकल्प तलाश करने का भी निर्देश दिया । उन्होंने पार्क को तारबंदी से सुरक्षित रखने तथा इसके संरक्षण के निमित्त सीमेंट पत्थर से युक्त खंभे जनसहयोग से बनाने का भी आह्वान किया । इस दौरान परिषद उपसभापति सदाकत अली ने 25 , पार्षद भरत टाक , पदमश्री भांभू , राकेश सेन , पार्षद गोविंद कड़वा , ललित लोमरोड़ व हरिराम ने 10-10 खंबे निर्माण के लिए अपनी ओर से सहयोग करने की घोषणा की ।
पेड़ों के अधिकाधिक लगाने पर बल, 400 पौधे लगे
सीईओ जवाहर चौधरी ने कहा कि पौधरोपण के माध्यम से एक धरती एक आसमान की परिकल्पना साकार होगी । पदमश्री हिम्मतराम भांभू ने कहा कि कितना भी विकास हो लेकिन वह प्राणवायु ऑक्सीजन नहीं दे सकता । अतिरिक्त जिला कलक्टर मोहनलाल खटनावलिया ने कहा कि पौधों से प्राणवायु ऑक्सीजन प्राप्त होती है जो प्राकृत होती है । नगर परिषद सभापति नीतू बोथरा ने कहा कि 72 वें वन महोत्सव के आयोजन से हमें यह संदेश लेना चाहिए कि वृक्ष ही जीवन है । पर्यावरणविद रामरतन बिश्नोई ने भी अपने विचार व्यक्त किए । जिला वन संरक्षण अधिकारी ज्ञानचंद मकवाना ने कार्यक्रम की पृष्ठभूमि रखी । इस अवसर पर जिला खेल अधिकारी भंवराराम सियाक, सीओ स्काउट अशफाक पंवार , सीओ गाइड मीनाक्षी भाटी , पार्षद नवरत्न बोथरा सहित अनेक गणमान्य नागरिकों ने एक एक पौधा लगाया । उद्यान में 400 पौधे लगाए गए ।